जब छोड़ चलु इस दुनिया को होठों पे नाम तुम्हारा हो

जब छोड़ चलु इस दुनिया को होठों पे नाम तुम्हारा हो भजन लिरिक्स
कृष्ण भजनसंजय मित्तल भजन
...इस भजन को शेयर करे...

जब छोड़ चलु इस दुनिया को,
होठों पे नाम तुम्हारा हो,
चाहे स्वर्ग मिले या नर्क मिले,
ह्रदय में वास तुम्हारा हो।।

तर्ज – अब सौंप दिया इस जीवन का।



तन श्याम नाम की चादर हो,

जब गहरी नींद में सोया रहूँ,
कानो में मेरे गुंजित हो,
कान्हा बस नाम तुम्हारा हो,
जब छोड़ चलु इस दुनिया को।।



रस्ते में तुम्हारा मंदिर हो,

जब मंजिल को प्रस्थान करूँ,
चौखट पे तेरी मनमोहन,
अंतिम प्रणाम हमारा हो,
जब छोड़ चलु इस दुनिया को।।



उस वक्त कन्हैया आ जाना,

जब चिता पे जाके शयन करूँ,
मेरे मुख में तुलसी दल देना,
इतना बस काम तुम्हारा हो,
जब छोड़ चलु इस दुनिया को।।



गर सेवा की मैंने तेरी,

तो उसका ये उपहार मिले,
इस ‘हर्ष’ भगत का साँवरिये,
नहीं आना कभी भी दुबारा हो,
जब छोड़ चलु इस दुनिया को।।



जब छोड़ चलु इस दुनिया को,

होठों पे नाम तुम्हारा हो,
चाहे स्वर्ग मिले या नर्क मिले,
ह्रदय में वास तुम्हारा हो।।



...इस भजन को शेयर करे...

2 thoughts on “जब छोड़ चलु इस दुनिया को होठों पे नाम तुम्हारा हो

  1. बहुत ही सुंदर भजन है, इसके लिए आपको बहुत बहुत धन्यवाद

    1. धन्यवाद, कृपया गूगल प्ले स्टोर से भजन डायरी डाउनलोड करें और बिना इंटरनेट के भी सारे भजन सीधे अपने मोबाइल में देखे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: कृपया प्ले स्टोर से \"भजन डायरी\" एप्प डाउनलोड करे।