याद करूँ जद रेवो हिरदा में आयल माता भजन

याद करूँ जद रेवो हिरदा में,
याद करूँ जद रेवो हिरदा मे,
भगता री रखवाली ओ आयल माता,
इती कई जेज लगाई।।



राजा पितु याद करी माँ,

सेवा करे मन भायी,
राजा पितु याद करी माँ,
सेवा करे मन भायी,
सुनने पुकार माँ आप पधार्या,
सुनने पुकार माँ आप पधार्या,
ए जमले जोर कराई ओ जोगमाया,
इती कई जेज लगाई।।



नगर भादरिया आप बिराजो,

भाटी कुल री राई,
नगर भादरिया आप बिराजो,
भाटी कुल री राई,
मापर महर करो जगदम्बा,
मापर महर करो आयल माँ,
ओ चरना शिश निवाय ओ जोगमाया,
इती कई जेज लगाई।।



नर नारी सब थाने मनावे,

सुनलो भादरिया री राई,
नर नारी सब थाने मनावे,
सुनलो भादरिया री राई,
चांदनी सातम् रो मेलो ओ लागे,
चांदनी सातम् रो मेलो ओ लागे,
नगर भादरिया माई ओ जोगमाया,
इती कई जेज लगाई।।



सातु बहना संग मे बिराजो,

संग मे भेरूजी माई,
सातु बहना संग मे बिराजो,
संग मे भेरूजी माई,
अखंड ज्योता जागे मन्दिर में,
अखंड ज्योत जागे मन्दिर में,
नगर भादरिया री राई ओ जोगमाया,
इती कई जेज लगाई।।



भाटी कुल माँ थाने मनावे,

गाँव बालोतरा माई,
दलपत सिंह भाटी थाने मनावे,
हर्षे घणो मन माई,
‘श्याम पालीवाल’ करे माँ सेवना,
श्याम पालीवाल करे माँ सेवना,
थारा ही गुण गाई जोगमाया,
इती कई जेज लगाई।।



याद करूँ जद रेवो हिरदा में,

याद करूँ जद रेवो हिरदा मे,
भगता री रखवाली ओ आयल माता,
इती कई जेज लगाई।।

गायक – श्याम पालीवाल जी।
प्रेषक – मनीष सीरवी।
(रायपुर जिला पाली राजस्थान)
9640557818


इस भजन को शेयर करे:

अन्य भजन भी देखें

हिरदा में बोल आ जाये जगदम्बा अम्बा सरस्वती

हिरदा में बोल आ जाये जगदम्बा अम्बा सरस्वती

हिरदा में बोल आ जाये, जगदम्बा अम्बा सरस्वती, नादिया पर भोलो बैठ्यो, सिंह पर बैठी पार्वती।। रिद्धि सिद्धि का दाता री, सब देवा का गणदेवपति, सब देवा का राजा ईन्र्दराजा,…

अब तू ही बता गोपाल कुण पार लगावेगो भजन लिरिक्स

अब तू ही बता गोपाल कुण पार लगावेगो भजन लिरिक्स

अब तू ही बता गोपाल, कुण पार लगावेगो, कुण आड़े आवेगो, अब तु ही बता गोपाल, कुण पार लगावेगो।। दुनिया तेरी ऐसी है, बटका सा भरे मेरे, गर तू नहीं…

मान कयो मोट्यार गुर्जर का भाया देवनारायण कथा भाग चार

मान कयो मोट्यार गुर्जर का भाया देवनारायण कथा भाग चार

मान कयो मोट्यार, गुर्जर का भाया, मरघट पर रहयो माया, भिडकेली थारी गाया, मत न तू ढेरा दे मसान मे, अरे मान कयों मोट्यार, गुर्जर का भाया।। अरे चिता धनके…

अलख निरंजन निज निराकारी विभो नभ ज्यूँ अलख पसारी

अलख निरंजन निज निराकारी विभो नभ ज्यूँ अलख पसारी

अलख निरंजन निज निराकारी, विभो नभ ज्यूँ अलख पसारी।। निर्गुण से सिर्गुण हो आया, ज्योति स्वरूप है आपकी माया। अलख निरँजन निज निराकारी, विभो नभ ज्यूँ अलख पसारी।। ब्रह्मा विष्णु…

Bhajan Lover / Singer / Writer / Web Designer & Blogger.

Leave a Comment

error: कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इंस्टाल करे