प्रथम पेज दुर्गा माँ भजन ऊँचे ऊँचे पहाड़ो पे मैया जी का बसेरा है भजन लिरिक्स

ऊँचे ऊँचे पहाड़ो पे मैया जी का बसेरा है भजन लिरिक्स

ऊँचे ऊँचे पहाड़ो पे,
मैया जी का बसेरा है,
निचे हम रहते,
ऊपर मैया जी का डेरा है,
ऊंचे ऊंचे पहाड़ो पे,
मैया जी का बसेरा है।।

तर्ज – बाबुल का ये घर।



मैया जी के द्वारे पे,

अँधा पुकार रहा,
अंधे को आँखे दो,
उसे तेरा ही सहारा है,
ऊंचे ऊंचे पहाड़ो पे,
मैया जी का बसेरा है।।



मैया जी के द्वारे पे,

कोढ़ी पुकार रहा,
कोढ़ी को काया दो,
उसे तेरा ही सहारा है,
ऊंचे ऊंचे पहाड़ो पे,
मैया जी का बसेरा है।।



मैया जी के द्वारे पे,

निर्धन पुकार रहा,
निर्धन को माया दो,
उसे तेरा ही सहारा है,
ऊंचे ऊंचे पहाड़ो पे,
मैया जी का बसेरा है।।



मैया जी के द्वारे पे,

बांझन पुकार रही,
बांझन को संतान दो,
उसे तेरा ही सहारा है,
ऊंचे ऊंचे पहाड़ो पे,
मैया जी का बसेरा है।।



मैया जी के द्वारे पे,

कन्या पुकार रही,
कन्या को वर घर दो,
उसे तेरा ही सहारा है,
ऊंचे ऊंचे पहाड़ो पे,
मैया जी का बसेरा है।।



मैया जी के द्वारे पे,

भगत पुकार रहे,
भक्तो को दर्शन दो,
उन्हें तेरा ही सहारा है,
ऊंचे ऊंचे पहाड़ो पे,
मैया जी का बसेरा है।।



ऊँचे ऊँचे पहाड़ो पे,

मैया जी का बसेरा है,
निचे हम रहते,
ऊपर मैया जी का डेरा है,
ऊंचे ऊंचे पहाड़ो पे,
मैया जी का बसेरा है।।

Singer – Isha Panchal


कोई टिप्पणी नही

आपको ये भजन कैसा लगा ? अपने विचार बताएं

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें

error: कृपया प्ले स्टोर से \"भजन डायरी\" एप्प डाउनलोड करे।