तुझ संग प्रीत लगाई कृष्णा भजन लिरिक्स

तुझ संग प्रीत लगाई कृष्णा,
कृष्णा कृष्णा ओ कान्हा,
कृष्ण कन्हैया कृष्ण कन्हैया,
तुझ संग प्रित लगाई कृष्णा,
कृष्णा कृष्णा ओ कान्हा।।

तर्ज – तुझ संग प्रीत लगाई सजना।



श्यामा तूने दुखियों को,

गले से लगाया,
भोले भोले भक्तो को,
अपना बनाया,
दुख और कष्टों को,
पल में भगाया,
इसलिए हमको तू भाए कृष्णा,
कृष्णा कृष्णा ओ कान्हा,
तुझ संग प्रित लगाई कृष्णा,
कृष्णा कृष्णा ओ कान्हा।।



कान्हा तेरे दर पे जो,

माँगा मिला है,
सुनी सुनी गोद में,
फूल खिला है,
यहाँ चमत्कारों का,
अजब सिलसिला है,
तेरे लिए माखन मैं लाई कृष्णा,
कृष्णा कृष्णा ओ कान्हा,
तुझ संग प्रित लगाई कृष्णा,
कृष्णा कृष्णा ओ कान्हा।।



तुझ संग प्रीत लगाई कृष्णा,

कृष्णा कृष्णा ओ कान्हा,
कृष्ण कन्हैया कृष्ण कन्हैया,
तुझ संग प्रित लगाई कृष्णा,
कृष्णा कृष्णा ओ कान्हा।।

Singer : Neelima, Simrat


आपको ये भजन कैसा लगा ? अपने विचार बताएं

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें