प्रथम पेज राम भजन ठुमक चलत रामचंद्र बाजत पैंजनियां भजन लिरिक्स

ठुमक चलत रामचंद्र बाजत पैंजनियां भजन लिरिक्स

ठुमक चलत रामचंद्र,
बाजत पैंजनियां।।



किलकि किलकि उठत धाय,

गिरत भूमि लटपटाय,
धाय मात गोद लेत,
दशरथ की रनियां,
ठुमक चलत रामचन्द्र,
बाजत पैंजनियां।।



अंचल रज अंग झारि,

विविध भांति सो दुलारि,
तन मन धन वारि वारि,
कहत मृदु बचनियां,
ठुमक चलत रामचन्द्र,
बाजत पैंजनियां।।



विद्रुम से अरुण अधर,

बोलत मुख मधुर मधुर,
सुभग नासिका में चारु,
लटकत लटकनियां,
ठुमक चलत रामचन्द्र,
बाजत पैंजनियां।।



तुलसीदास अति आनंद,

देख के मुखारविंद,
रघुवर छबि के समान,
रघुवर छबि बनियां,
ठुमक चलत रामचन्द्र,
बाजत पैंजनियां।।



ठुमक चलत रामचंद्र,

बाजत पैंजनियां।।

लेखक – गोस्वामी श्री तुलसीदास जी।
स्वर – अदिति।


कोई टिप्पणी नही

आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें

error: कृपया प्ले स्टोर से \"भजन डायरी\" एप्प डाउनलोड करे।