इव थाने अर्ज करूँ भोमिया जी सायल लिरिक्स

इव थाने अर्ज करूँ भोमिया जी,
देव कला बरताई जियो,
सकळ कला ओ सकलाई म्हारा बापजी,
जुग माई जोत सवाई हो आ।।



कुंकू केसर बाबा गार गलाऊँ,

निपे चूड़ले रे वाली बाई जियो,
देव कला बरताई जियो,
सकळ कला ओ सकलाई म्हारा बापजी,
जुग माई जोत सवाई हो आ।।



ऊँचा रे ऊंचा भोमिया जी थोरे देउँ रे बैठना,

लुळ लुळ लागो थोरे पाई जियो,
देव कला बरताई जियो,
सकळ कला ओ सकलाई म्हारा बापजी,
जुग माई जोत सवाई हो आ।।



पडासले सू चढ़िया म्हारा भोमिया,

गेरी गेरी फौज बणाई जियो,
देव कला बरताई जियो,
सकळ कला ओ सकलाई म्हारा बापजी,
जुग माई जोत सवाई हो आ।।



मोतियों री माला भोमिया जी गले माई सोवे,

पिचरंग पाग सवाई जियो,
देव कला बरताई जियो,
सकळ कला ओ सकलाई म्हारा बापजी,
जुग माई जोत सवाई हो आ।।



धोलो धोलो घोड़ो बाबा सोवे थाने हांसलो,

हाथा माई खड़ग सवाई जियो,
देव कला बरताई जियो,
सकळ कला ओ सकलाई म्हारा बापजी,
जुग माई जोत सवाई हो आ।।



रातड़िये रिण माई धणी थे भालो भलकायो,

फौजो ने मार हटाई जियो,
देव कला बरताई जियो,
सकळ कला ओ सकलाई म्हारा बापजी,
जुग माई जोत सवाई हो आ।।



दुरा देशा रा बाबा आवे ओ जातरी,

चरणों में शीश निवाई जियो,
देव कला बरताई जियो,
सकळ कला ओ सकलाई म्हारा बापजी,
जुग माई जोत सवाई हो आ।।



जोधाणे रा राजा थाने सिंवरे भोमिया जी,

पर्चा पूगा प्रखंडाई जियो,
देव कला बरताई जियो,
सकळ कला ओ सकलाई म्हारा बापजी,
जुग माई जोत सवाई हो आ।।



ऐड़ी ऐड़ी सायल मूलोजी रिख गावे,

ज्याने भोमिया जी आप फरमाई जियो,
देव कला बरताई जियो,
सकळ कला ओ सकलाई म्हारा बापजी,
जुग माई जोत सवाई हो आ।।



इव थाने अर्ज करूँ भोमिया जी,

देव कला बरताई जियो,
सकळ कला ओ सकलाई म्हारा बापजी,
जुग माई जोत सवाई हो आ।।

गायक – कुम्भाराम जी भलासरिया।
प्रेषक – रामेश्वर लाल पँवार।
आकाशवाणी सिंगर।
9785126052