प्रथम पेज कृष्ण भजन तेरे दर्शन को तरसे ये नैन हमारे है भजन लिरिक्स

तेरे दर्शन को तरसे ये नैन हमारे है भजन लिरिक्स

तेरे दर्शन को तरसे,
ये नैन हमारे है,
तुमसे ही मेरी खुशियां,
तुमसे ही बहारे है,
तेरे दर्शन को तरसें,
ये नैन हमारे है।।

तर्ज – ना स्वर है ना सरगम है।



जीवन की ख़ुशी तुम हो,

होंठो की हंसी तुम हो,
कोई कष्ट हो जीवन में,
उसकी भी दवा तुम हो,
परिवार मेरा मोहन,
अब तेरे सहारे है,
तेरे दर्शन को तरसें,
ये नैन हमारे है।।



तूने हाथ मेरा पकड़ा,

पग पग पे सहारा दिया,
दुनिया ने ठुकराया,
तूने ही तो अपनाया,
उपकार तेरे मुझ पर,
जाने कितने हजारो है,
तेरे दर्शन को तरसें,
ये नैन हमारे है।।



माँ बाप का साया था,

तू याद ना आया था,
छूटी जब वो छाया,
उस वक्त से हम जीवन,
तुझ पर ही वारे है,
तेरे दर्शन को तरसें,
ये नैन हमारे है।।



तेरे दर्शन को तरसे,

ये नैन हमारे है,
तुमसे ही मेरी खुशियां,
तुमसे ही बहारे है,
तेरे दर्शन को तरसें,
ये नैन हमारे है।।

Singer : Anil Sharma


कोई टिप्पणी नही

आपको ये भजन कैसा लगा ? अपने विचार बताएं

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें

error: कृपया प्ले स्टोर से \"भजन डायरी\" एप्प डाउनलोड करे।