सोनानो गरबो रूपानो गरबो भजन लिरिक्स

सोनानो गरबो रूपानो गरबो,
ए ए गरबो ब्राह्मणी नी नो,
सोवतो रे मारो,
मारो सोना गरबो,
सोनानों गरबो रूपानो गरबो।।



हे नवरंग चुनडी माँ ने सोवती,

ए ए लीलोडी काचली,
लीलोडी काचली सोवती,
रे मारो सोना गरबो,
सोनानों गरबो रूपानो गरबो।।



हे नवरंग टिलडी माँ ने सोवती,

नवरंग टिलडी माँ ने सोवती,
ए ए गले में हार प्यारो,
गले में हार प्यारो सोवतो,
रे मारो मारो सोना गरबो,
सोनानों गरबो रूपानो गरबो।।



हे माँ चितौड़ गढ मे आप बिराजो,

ए ए दुनिया दर्शन,
दुनिया दर्शन आवती,
रे मारो मारो सोना गरबो,
सोनानों गरबो रूपानो गरबो।।



हे सातु रे बहना खेले संग मे,

हे नवदुर्गा माता खेले संग मे,
ए ए संग मे भेरूजी,
संग मे भेरूजी रमतो,
रे मारो मारो सोना गरबो,
सोनानों गरबो रूपानो गरबो।।



हे गहलोत वंश माँ थारा गुण गावे,

भूरजी ए माली माँ ने मनावे,
ए ए दिपोनी थारे माता आवता,
रे मारो मारो सोना गरबो,
सोनानों गरबो रूपानो गरबो।।



सोनानो गरबो रूपानो गरबो,

ए ए गरबो ब्राह्मणी नी नो,
सोवतो रे मारो,
मारो सोना गरबो,
सोनानों गरबो रूपानो गरबो।।

स्वर – श्याम पालीवाल जी।
प्रेषक – मनीष सीरवी
9640557818


आपको ये भजन कैसा लगा ? अपने विचार बताएं

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें