प्रथम पेज आरती संग्रह सिया रघुवर जी की आरती शुभ आरती कीजे लिरिक्स

सिया रघुवर जी की आरती शुभ आरती कीजे लिरिक्स

सिया रघुवर जी की आरती,
शुभ आरती कीजे।।



शीश मुकुट काने कुण्डल सोहे ,

राम लखन सिया जानकी,
शुभ आरती कीजे।।



मोर मुकुट माथे पर सोहे,

राधा सहित घनश्याम की,
शुभ आरती कीजे।।



अक्षत चन्दन घी की बाती,

उमा सहित महादेव की,
शुभ आरती कीजे।।



मम दुःख हरणी मंगल करणी,

आरती लक्ष्मी गणेश की,
शुभ आरती कीजे।।



अलख निरंजन असुर निकंदन,

अंजनी लला हनुमान की,
शुभ आरती कीजे।।



रामदेव ओरी कुलदेवा,

माता पिता गुरुदेव की,
शुभ आरती कीजे।।



सिया रघुवर जी की आरती,

शुभ आरती कीजे।।

प्रेषक – आशुतोष सोनी
9889679944


कोई टिप्पणी नही

आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें

error: कृपया प्ले स्टोर से \"भजन डायरी\" एप्प डाउनलोड करे।