श्याम प्रेम का लगेया रोग मुझे दर्शन की बड़ी उम्मीद लिरिक्स

श्याम प्रेम का लगेया रोग,
मुझे दर्शन की बड़ी उम्मीद,
पागल कहने लगे हैं लोग,
देर करो ना दिखाओ अब दीद,
मुझे दर्शन की बड़ी उम्मीद,
श्याम प्रेम का लगैया रोग,
मुझे दर्शन की बड़ी उम्मीद।।

तर्ज – मेनू इश्क़ का लगेया रोग।



दुनिया ने रुला दिया,

तूने हसा दिया,
इश्क़ तेरे ने बाबा,
दीवाना बना दिया,
तेरी लगन लगी,
मन में ज्योत जगी,
जब से तेरा साथ मिला,
हर ख़ुशी है हमे मिली,
बाबा दिल ये माने ना,
तेरे बिना कुछ भी जाने ना,
श्याम प्रेम का लगैया रोग,
मुझे दर्शन की बड़ी उम्मीद।।



मेरे श्याम पिया,

लागे ना जिया,
मेरे मन मंदिर में,
घर अपना बना लिया,
कुछ ऐसा कर जाए,
तेरी रेहमत हम पाए,
तेरी किरपा से बाबा,
पापी भी तर जाए,
प्यार में तेरे ओ मेरे श्याम,
मैंने छोड़ा है सारा जहान,
श्याम प्रेम का लगैया रोग,
मुझे दर्शन की बड़ी उम्मीद।।



‘राजू’ को बाबा,

तेरी ज़रूरत है,
‘मोना’ कहती सांवरिया,
हमें तुमसे मोहब्बत है,
तुझको बुलाएँगे,
पलकें बिछाएंगे,
‘प्रिंस’ कहता बाबा,
तुमको ही चाहेंगे,
अब सुनले तू सांवरिया,
मैंने तेरा ही नाम लिया,
श्याम प्रेम का लगैया रोग,
मुझे दर्शन की बड़ी उम्मीद।।



श्याम प्रेम का लगेया रोग,

मुझे दर्शन की बड़ी उम्मीद,
पागल कहने लगे हैं लोग,
देर करो ना दिखाओ अब दीद,
मुझे दर्शन की बड़ी उम्मीद,
श्याम प्रेम का लगैया रोग,
मुझे दर्शन की बड़ी उम्मीद।।

Singer – Mona Shyam Diwani


आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें