श्री कृष्ण गोविन्द हरे मुरारी रविंद्र जैन भजन लिरिक्स

श्री कृष्ण गोविन्द हरे मुरारी रविंद्र जैन भजन लिरिक्स

श्री कृष्ण गोविन्द हरे मुरारी,
हे नाथ नारायण वासुदेवा,
पितु मात स्वामी सखा हमारे,
हे नाथ नारायण वासुदेवा।।



बंदी गृह के तुम अवतारी,

कही जन्मे कही पले मुरारी,
किसी के जाए किसी के कहाये,
है अद्भुत हर बात तिहारी,
गोकुल में चमके मथुरा के तारे,
हे नाथ नारायण वासुदेवा,

श्री कृष्ण गोविन्द हरे मुरारी,
हे नाथ नारायण वासुदेवा।।



अधर में बंशी ह्रदय में राधे,

बट गए दोनों में आधे आधे,
हे राधा नागर हे भक्त वत्सल,
सदैव भक्तो के काम साधे,
वही गए जहा गए पुकारे,
हे नाथ नारायण वासुदेवा,

श्री कृष्णा गोविन्द हरे मुरारी,
हे नाथ नारायण वासुदेवा।।



गीता में उपदेश सुनाया,

धर्म युद्ध को धर्म बताया,
कर्म तो कर मत रख,
फल की इक्षा,
ये सन्देश तुम्ही से पाया,
अमर है गीता के बोल सारे,
हे नाथ नारायण वासुदेवा,

श्री कृष्णा गोविन्द हरे मुरारी,
हे नाथ नारायण वासुदेवा।।



राधे कृष्णा राधे कृष्णा,

राधे राधे कृष्णा कृष्णा,
राधे कृष्णा राधे कृष्णा,
राधे राधे कृष्णा कृष्णा।।



श्री कृष्ण गोविन्द हरे मुरारी,

हे नाथ नारायण वासुदेवा,
पितु मात स्वामी सखा हमारे,
हे नाथ नारायण वासुदेवा।।


6 टिप्पणी

आपको ये भजन कैसा लगा ? अपने विचार बताएं

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें