प्रथम पेज प्रकाश माली भजन शरणे आयो री देवी लाज राखजो भजन लिरिक्स

शरणे आयो री देवी लाज राखजो भजन लिरिक्स

शरणे आयो री देवी लाज राखजो,
राखोनी छतर वाली छाया,
मारी जरणी जोग माया।।



सोना रूपा री थारे ईटा गडाउला,

थारो देवलीयो चीणवाउला,
मारी जरणी जोग माया।।



कंकु केसर वाली डाल गलाउला,

थारो देवलयो नीपवाउला,
सोना रूपा री थारे ईटा गडाउला,
थारो देवलीयो चीणवाउला,
मारी जरणी जोग माया।।



भुरी गाय रो घीर्त मंगउला,

दीवले री जोत जगाउला,
मींदरीया मे जोत जगाउला,
सोना रूपा री थारे ईटा गडाउला,
थारो देवलीयो चीणवाउला,
मारी जरणी जोग माया।।



दोई कर जोड़ राजा मान सिंग बोले,

चरणों में सीश नवाउला,
थारे रमतो रमतो आउला,
थारे मिंदर दरसण पाउला,
सोना रूपा री थारे ईटा गडाउला,
थारो देवलीयो चीणवाउला,
मारी जरणी जोग माया।।



शरणे आयो री देवी लाज राखजो,

राखोनी छतर वाली छाया,
मारी जरणी जोग माया।।

स्वर – प्रकाश जी माली।
प्रेषक – Narayan jangid
9413344064


कोई टिप्पणी नही

आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें

error: कृपया प्ले स्टोर से \"भजन डायरी\" एप्प डाउनलोड करे।