सांवरिया घर आजा रे नदी रे किनारे म्हारो गाँव भजन लिरिक्स

सांवरिया घर आजा रे,
नदी रे किनारे म्हारो गाँव,
नदी रे किनारे म्हारो गाँव,
साँवरिया यमुना किनारे म्हारो गाँव,
साँवरिया घर आजा रे,
नदी रे किनारे म्हारो गाँव।।



थारे थारे कारण सांवरा,

बाग लगाया रे,
घुमण रे मिस आजा रे,
नदी रे किनारे म्हारो गाँव,
साँवरिया घर आजा रे,
नदी रे किनारे म्हारो गाँव।।



थारे थारे कारण साँवरा,

भोजन बणाया रे,
जीमण रे मिस आजा रे,
नदी रे किनारे म्हारो गाँव,
साँवरिया घर आजा रे,
नदी रे किनारे म्हारो गाँव।।



थारे थारे कारण साँवरा,

होद भराया रे,
झूलण मिस आजा रे,
नदी रे किनारे म्हारो गाँव,
साँवरिया घर आजा रे,
नदी रे किनारे म्हारो गाँव।।



थारे थारे कारण साँवरा,

आसन लगाया रे,
बैठण मिस आजा रे,
नदी रे किनारे म्हारो गाँव,
साँवरिया घर आजा रे,
नदी रे किनारे म्हारो गाँव।।



चन्द्र सखी भज,

बाल कृष्ण छवि,
भक्तों को पार लगाजा रे,
नदी रे किनारे म्हारो गाँव,
साँवरिया घर आजा रे,
नदी रे किनारे म्हारो गाँव।।



सांवरिया घर आजा रे,

नदी रे किनारे म्हारो गाँव,
नदी रे किनारे म्हारो गाँव,
साँवरिया यमुना किनारे म्हारो गाँव,
साँवरिया घर आजा रे,
नदी रे किनारे म्हारो गाँव।।

प्रेषक – रामेश्वर लाल पँवार।
‘आकाशवाणी सिंगर’
9785126052


इस भजन को शेयर करे:

अन्य भजन भी देखें

इण रे चित्तोड़ वाले मार्गे मारी माता भजन लिरिक्स

इण रे चित्तोड़ वाले मार्गे मारी माता भजन लिरिक्स

इण रे चित्तोड़ वाले मार्गे मारी माता, जिणी-जिणी उड़े रे गुलाल, मारी मात बावणी।। रथड़ो हाले रे मारी, बाण माता रो भाई (गहलोतो), भैरुजी आगण भोय, मारी बाण माता इण…

आवणो पड़ेला माताजी आवणो पड़ेला भजन लिरिक्स

आवणो पड़ेला माताजी आवणो पड़ेला भजन लिरिक्स

आवणो पड़ेला माताजी आवणो पड़ेला, दोहा – भेरू लाजो साथ में, ने चौसठ जोगनीया साथ, रमवा आओ आंगने, मारी जगदम्बा मम मात। सुन्धा भाकर ती सुन्धा माताजी पधारो, लटीयाला भेरू…

सोने रे आकर लिखयोडी तारातरा री शुभ गाथा

सोने रे आकर लिखयोडी तारातरा री शुभ गाथा

सोने रे आकर लिखयोडी, तारातरा री शुभ गाथा, जुना जुगा तपीयोडी धरती, तारातरा री यश गाथा, तारातरा री यश गाथा।। देव डूंगरपुरी परम्परा में, सिद्ध योगी चहु खुट होया, जगतपुरी…

प्यारी लागे ओ साँवरिया थाकि मुकट मणि भजन लिरिक्स

प्यारी लागे ओ साँवरिया थाकि मुकट मणि भजन लिरिक्स

प्यारी लागे ओ साँवरिया, थाकि मुकट मणि। दोहा – प्रीत लगाकर सांवरा, तू परदेसा मति जाय, में ल्याउ मांग कर, तू बेठो बेठो खाय। प्यारी लागे ओ साँवरिया, थाकि मुकट…

Bhajan Lover / Singer / Writer / Web Designer & Blogger.

Leave a Comment

error: कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इंस्टाल करे