सारे जग में उजाला है मैंने तुझको पुकारा है भजन लिरिक्स

सारे जग में उजाला है मैंने तुझको पुकारा है भजन लिरिक्स

सारे जग में उजाला है,
मैंने तुझको पुकारा है,
विनती सुनलो मेरी मैया,
मुझे तेरा सहारा है,
सारे जग में उजाला हैं,
मैंने तुझको पुकारा है।।

तर्ज – एक प्यार का नगमा है।



तेरा धाम निराला है,

तेरी ज्योत नूरानी है,
दुखडो से भरी मेरी,
जीवन की कहानी है,
अपनों ने ही मारा है,
कोई ना सहारा है,
विनती सुनलो मेरी मैया,
मुझे तेरा सहारा है,
सारे जग में उजाला हैं,
मैंने तुझको पुकारा है।।



जब तेरे भक्तो पर,

विपदाएं माँ आई है,
दुष्टो का तू काल बनी,
माँ दौड़ी आई है,
तक़दीर का मारा है,
तेरा लाल बेचारा है,
विनती सुनलो मेरी मैया,
मुझे तेरा सहारा है,
सारे जग में उजाला हैं,
मैंने तुझको पुकारा है।।



‘लहरी’ मुझे तू मैया,

ऐसे तड़पाती हो,
बन बैठा तमाशा माँ,
क्यूँ लोग हसाती हो,
क्या निर्णय तुम्हारा है,
क्यूँ ये हाल हमारा है,
विनती सुनलो मेरी मैया,
मुझे तेरा सहारा है,
सारे जग में उजाला हैं,
मैंने तुझको पुकारा है।।



सारे जग में उजाला है,

मैंने तुझको पुकारा है,
विनती सुनलो मेरी मैया,
मुझे तेरा सहारा है,
सारे जग में उजाला हैं,
मैंने तुझको पुकारा है।।

Singer – Uma Lahri Ji


१ टिप्पणी

आपको ये भजन कैसा लगा ? अपने विचार बताएं

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें