सांसो की गिनती से ज्यादा श्याम तेरे अहसान है लिरिक्स

सांसो की गिनती से ज्यादा श्याम तेरे अहसान है लिरिक्स

सांसो की गिनती से ज्यादा,
श्याम तेरे अहसान है,
तुमसे ही शान मेरी,
तुमसे पहचान है,
तुमसे ही शान मेरी,
तुमसे पहचान है।।

तर्ज – जिनको जिनको सेठ बनाया।



ऐसा वक्त भी देखा है,

दो वक्त के लिए तरसते थे,
इतने हम मजबूर हुए की,
आँख से आंसू बरसते थे,
बीती बाते भी सोच के दिल,
हो जाता परेशान है,
तुमसे ही शान मेरी,
तुमसे पहचान है,
तुमसे ही शान मेरी,
तुमसे पहचान है।।



दौलत शोहरत नाम दिया,

खुशियों से भंडार भरे,
क्या क्या गिनवाऊ कैसे,
इतने है उपकार करे,
दुनिया वाले पता पूछते,
करते मेरा सम्मान है,
तुमसे ही शान मेरी,
तुमसे पहचान है,
तुमसे ही शान मेरी,
तुमसे पहचान है।।



साँस रुके तो रुक जाए,

साथ कभी भी छूटे ना,
जनम जनम का ये नाता,
श्याम कभी भी टूटे ना,
कहता ‘मोहित’ दिल का बाबा,
इतना सा अरमान है,
तुमसे ही शान मेरी,
तुमसे पहचान है,
तुमसे ही शान मेरी,
तुमसे पहचान है।।



सांसो की गिनती से ज्यादा,

श्याम तेरे अहसान है,
तुमसे ही शान मेरी,
तुमसे पहचान है,
तुमसे ही शान मेरी,
तुमसे पहचान है।।

Singer – Amit Kalra Ji


आपको ये भजन कैसा लगा ? अपने विचार बताएं

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें