सबसे पहले मनाऊँ मैं गणेश हरो जी हरो हरलो भक्तो के कलेश

सबसे पहले मनाऊँ मैं गणेश हरो जी हरो हरलो भक्तो के कलेश

सबसे पहले मनाऊँ मैं गणेश,
हरो जी हरो,
हरलो भक्तो के कलेश।।

श्लोक – बंदगी गणराज को,
गौरा दुलारे को करूँ,
संकट हरण विघ्नेश को,
शम्भू पियारे को करूँ।



सबसे पहले मनाऊँ मैं गणेश,

हरो जी हरो,
हरलो भक्तो के कलेश,
हरो जी हरो,
हरलो भक्तो के कलेश।।



खजराने में आप विराजे,

मंदिर गणपति चम चम साजे,
गौरा माता पिताजी हैं महेश,
हरो जी हरो,
हरलो भक्तो के कलेश,
हरो जी हरो,
हरलो भक्तो के कलेश।।



बड़े गणपति शान निराली,

झोली भरते सबकी खाली,
रिद्धि सिद्धि रहे संग हमेश,
हरो जी हरो,
हरलो भक्तो के कलेश,
हरो जी हरो,
हरलो भक्तो के कलेश।।



भीड़ लगी उज्जैन में भारी,

चिंतामन जयकार तुम्हारी,
नाम गणपति का देश विदेश,
हरो जी हरो,
हरलो भक्तो के कलेश,
हरो जी हरो,
हरलो भक्तो के कलेश।।



विघ्न हरण मंगल के दाता,

जग के प्रेमी भाग्य विधाता,
सुनलो सुनलो हमारा सन्देश,
हरो जी हरो,
हरलो भक्तो के कलेश,
हरो जी हरो,
हरलो भक्तो के कलेश।।



सबसे पहले मनाऊँ मैं गणेश,

हरो जी हरो,
हरलो भक्तो के कलेश,
हरो जी हरो,
हरलो भक्तो के कलेश।।


Video Not Available..

आपको ये भजन कैसा लगा ? अपने विचार बताएं

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें