राधा के सागे होली खेले रे सांवरिया भजन लिरिक्स

राधा के सागे,
होली खेले रे सांवरिया,
रंग उड़ावै लाल केसरिया,
होली खेले रे सांवरिया,
राधा के सागें,
होली खेले रे सांवरिया।।

तर्ज – भोले बाबा की गौरा बनी।



सोने की पिचकारी लेकर,

आयो नन्द लाल है,
राधा ल्याई चांदी की,
कटोरी में गुलाल है,
राधा के सागे नटवर नागरिया,
राधा के सागे नटवर नागरिया,
होली खेले रे सांवरिया,
राधा के सागें,
होली खेले रे सांवरिया।।



वृन्दावन वालो,

बरसाने आयो चाल के,
ग्वाल बाल सगळा आया,
सागे नन्द लाल के,
राधा रानी की आई सारी सखिया,
राधा रानी की आई सारी सखिया,
होली खेले रे सांवरिया,
राधा के सागें,
होली खेले रे सांवरिया।।



श्याम के लगावे,

राधा हाथां से गुलाल है,
भर भर पिचकारी,
मारे नन्द लाल है,
भीगी सारी राधा की चुनरिया,
भीगी सारी राधा की चुनरिया,
होली खेले रे सांवरिया,
राधा के सागें,
होली खेले रे सांवरिया।।



बरसाने में तो ‘सोनू’,

मची हुड़दंग है,
अबीर गुलाल उड़े,
बाज रया चंग है,
लोग लुगाई नाचे ताता थैया,
लोग लुगाई नाचे ताता थैया,
Bhajan Diary Lyrics,
होली खेले रे सांवरिया,
राधा के सागें,
होली खेले रे सांवरिया।।



राधा के सागें,

होली खेले रे सांवरिया,
रंग उड़ावै लाल केसरिया,
होली खेले रे सांवरिया,
राधा के सागें,
होली खेले रे सांवरिया।।

Singer – Raju Mehra Ji


आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें