प्रियाकांतजू की आरती उतारो हे अली लिरिक्स

प्रियाकांतजू की आरती उतारो हे अली,
सोहे यशोदा को लाल किरत भानु की लली,
प्रियाकांतजू की आरती उतारो हे अली।।



भावे जलज कुसुम चित आकर्षक छवि,

लाजे कोटि मनोज कटे कौंधनी सजी,
पित पटुका सुहावे मुक्त हीरक मिली,
प्रियाकांत जू की आरती उतारो हे अली।।



गोपी ग्वाल धेनु मोर भृंग खग पिक सुखी,

धिक्ति दिव्यमान दांत भव्य सूरज मुखी,
मोहन महिमा ललाम खोले भाग्य की गली,
प्रियाकांत जू की आरती उतारो हे अली।।



राजे अधरन वेणु कर पंक कंकड़ दलि,

शीश मोर को मुकुट कृष्ट राधिका खिली,
बोहित भवसिंधु हेतु सुखदायक बली,
प्रियाकांतजू की आरती उतारो हे अली।।



वाम भाग्य सोके संग श्री दामा भगिनी,

मोहे सौम्य पित साटिका लजावे दामिनी,
निम्ब संबुक पिराज गण देव विमली,
प्रियाकांत जू की आरती उतारो हे अली।।



देवकी सुजान व्यास विप्र कुलमणि,

कीनो सुकृत प्रशंश विश्व शांति सोमनी,
गावे आरती सूचित मन कामना फली,
प्रियाकांत जू की आरती उतारो हे अली।।



प्रियाकांतजू की आरती उतारो हे अली,

सोहे यशोदा को लाल किरत भानु की लली,
प्रियाकांत जू की आरती उतारो हे अली।।


इस भजन को शेयर करे:

अन्य भजन भी देखें

आरती श्री साईं गुरुवर की परमानंद सदा सुरवर की लिरिक्स

आरती श्री साईं गुरुवर की परमानंद सदा सुरवर की लिरिक्स

आरती श्री साईं गुरुवर की, परमानंद सदा सुरवर की।। जाकी कृपा विपुल सुखकारी, दु:ख शोक संकट भयहारी, शिरडी में अवतार रचाया, चमत्कार से जग हर्षाया, आरती श्रीं साईं गुरुवर की,…

श्री राधा जी की आरती

श्री राधा जी की आरती

श्री राधा जी की आरती, आरती प्रीतम प्यारी की, कि बनवारी नथवारी की। दुहुँन सर कनक-मुकुट झलकै, दुहुँन श्रुति कुण्डल भल हलकै, दुहुँन  दृग प्रेम सुधा छलकै, चसीले बैन, रसीले…

आरती श्री बनवारी की भागवत कृष्ण बिहारी की

आरती श्री बनवारी की भागवत कृष्ण बिहारी की

आरती श्री बनवारी की, भागवत कृष्ण बिहारी की।। भागवत भगवत मंगल रूप, कथामय मंजुल मधुर अनूप, पितामह मुखरित प्रथम स्वरूप, विराजत नारद मनमय कूप, कृष्ण रसदान,रसिक जन प्राण, करत बुधगान,…

Bhajan Lover / Singer / Writer / Web Designer & Blogger.

1 thought on “प्रियाकांतजू की आरती उतारो हे अली लिरिक्स”

Leave a Comment

error: कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इंस्टाल करे