पावागढ़ सु उत्तरी कालका संग भेरू ने लाइ रे

पावागढ़ सु उत्तरी कालका,
संग भेरू ने लाइ रे,
आगे आगे कालो खेले,
पाछे भेरू गोरो हे ओ जी।।



ऐ हे खड़क खांडो खप्पर हाते,

हुई विकराल काली हे,
योगी भूत पिचासन नाचे,
हे तीन लोक की माई हे ओ जी,
पांवागढ़ सु उत्तरी कालका,
संग भेरू ने लाइ रे।।



ऐ हे तीन लोक और चौदह भवन में,

माता थारो राज हे,
देवी देवता सरणे आया,
शंकर शीश नमाया हे ओ जी,
पांवागढ़ सु उत्तरी कालका,
संग भेरू ने लाइ रे।।



ऐ हे ढोल नंगाड़ा नोपत बाज्या,

तीनो देव थारे नाच्या हे,
भगता रे बेले आवो ऐ कालका,
अब देरी ना लगावो हे ओ जी,
पांवागढ़ सु उत्तरी कालका,
संग भेरू ने लाइ रे।।



ऐ हे धरम भगत थारी महिमा गावे,

चरना शीश नमावे हे,
जो कोई चरना आवे मात रे,
जनम सफल हो जावे हे ओ जी,
पांवागढ़ सु उत्तरी कालका,
संग भेरू ने लाइ रे।।



पावागढ़ सु उत्तरी कालका,

संग भेरू ने लाइ रे,
आगे आगे कालो खेले,
पाछे भेरू गोरो हे ओ जी।।

गायक और लेखक – धर्मेंद्र तंवर उदयपुर।
mobile no 9829202569


आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें