पापा को पाया तो रब को पाया है गीत लिरिक्स

पापा को पाया तो,
रब को पाया है,
पापा की छाया में,
दिल का चैन पाया है,
ये कैसा रिश्ता है,
कैसा नाता है,
जन्म जन्म तक,
पापा तेरा साथ माँगा है।।

तर्ज – तुझको ना देखूं तो।



हर गम उठाया,

तुमने अकेले,
हम तो बस हर दम,
खुशियों में खेले,
सारे संसार का,
मान और सम्मान दूँ,
अपनी खुशियाँ सभी,
तुझ पे ही वार दूँ,
ये मेरा जीवन तो,
तेरा साया है,
तेरी ही छाया में,
दिल का चैन पाया है,
पापा कों पाया तों,
रब को पाया है।।



तुझसे मिला है,

जो कुछ है पाया,
नाज़ो से तुमने,
मुझको है पाला,
संस्कारो से मुझे,
जीना सिखाया,
मेरा दिल ना दुखे,
ये तूने चाहा,
मेरे लिए तुम कितना,
दर्द उठाते हो,
जन्म जन्म तक पापा,
तेरा साथ माँगा है,
पापा कों पाया तों,
रब को पाया है।।



पापा को पाया तो,

रब को पाया है,
पापा की छाया में,
दिल का चैन पाया है,
ये कैसा रिश्ता है,
कैसा नाता है,
जन्म जन्म तक,
पापा तेरा साथ माँगा है।।

Singer – Vicky D Parekh


आपको ये भजन कैसा लगा ? अपने विचार बताएं

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें