पग पग लेवा थारो नाम लेकर हाथा में निशान भजन लिरिक्स

पग पग लेवा थारो नाम लेकर हाथा में निशान भजन लिरिक्स

पग पग लेवा थारो नाम,
लेकर हाथा में निशान,
म्हाने खाटू बुला ले रे,
बुला ले बाबा खाटू बुला ले रे।।



मोह माया ने छोड़ी बाबा,

छोड़ दियो घर बार,
मन में ऐसी ज्योत जगी,
म्हे आवा थारे द्वार,
म्हारे सिर पर रख जो हाथ,
बाबा थासु या अरदास,
म्हाने खाटू बुला ले रे,
पग पग लेंवा थारो नाम,
लेकर हाथा में निशान,
म्हाने खाटू बुला ले रे,
बुला ले बाबा खाटू बुला ले रे।।



हर ग्यारस ने ज्योत जगावा,

लेवा थारो नाम,
थासु म्हारी अब या विनती,
पूरण करो सब काम,
म्हारा खाटू रा सरदार,
आया टाबरिया रे साथ,
म्हाने खाटू बुला ले रे,
पग पग लेंवा थारो नाम,
लेकर हाथा में निशान,
म्हाने खाटू बुला ले रे,
बुला ले बाबा खाटू बुला ले रे।।



ऐसी परीक्षा ना ले बाबा,

हिवड़ो फाट्यो जावे,
विपदा में म्हारे तू नहीं आवे,
कुण म्हारो धीर बनावे,
म्हे तो करयो थारो विश्वास,
थे मत करो म्हने निराश,
म्हाने खाटू बुला ले रे,
पग पग लेंवा थारो नाम,
लेकर हाथा में निशान,
म्हाने खाटू बुला ले रे,
बुला ले बाबा खाटू बुला ले रे।।



‘रामअवतार’ लगावे अर्जी,

‘नंदू’ री अरदास,
‘दास विनोद’ पुकारे बाबा,
सगळा जोड़े हाथ,
‘सीताराम’ री पुकार,
सगळा साथिड़े रे साथ,
म्हाने खाटू बुला ले रे,
पग पग लेंवा थारो नाम,
लेकर हाथा में निशान,
म्हाने खाटू बुला ले रे,
बुला ले बाबा खाटू बुला ले रे।।



पग पग लेवा थारो नाम,

लेकर हाथा में निशान,
म्हाने खाटू बुला ले रे,
बुला ले बाबा खाटू बुला ले रे।।

गायक – नविन अग्रवाल।


आपको ये भजन कैसा लगा ? अपने विचार बताएं

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें