ओ बीरू रे चोटिला हद सोवनो म्हारा ओम बन्नासा रो धाम

ओ बीरू रे चोटिला हद सोवनो,

दोहा – चोटिला हद सोवनो,
ओम बन्नासा रो धाम,
दूर दूर रा यात्री,
बन्नासा परचा रो नही पार।



ओ बीरू रे चोटिला हद सोवनो,

ओ म्हारा ओम बन्नासा रो धाम,
बीरू रे चोटिला हद सोवनो रे,
जटे ओम बन्नासा रो धाम,
बीरा रे चोटिला हद सोवनो रे।।



ओ बन्नासा राठौड़ कुल मे जन्मीया,

थारो जग में अमर नाम,
बन्नासा राठौड़ कुल मे जन्मीया रे,
थारो जग में अमर नाम,
बन्नासा राठौड़ कुल मे जन्मीया रे।।



ओ बीरू रे जोग सिंह जी रे आंगने,

कोई जन्मीयो शूरो आज बीरा ओ,
जोग सिंह जी रे आंगने,
कोई जन्मीयो शूरो आज बीरा रे,
जोग सिंह जी रे आंगने रे।।



ओ बन्नासा स्वरूप कंवर माँ आपरी,

बन्ना घणो लडायो लाड बन्ना ओ,
स्वरूप कंवर माँ आपरी,
थाने घणो लडायो लाड बन्ना ओ,
स्वरूप कंवर माँ आपरी रे।।



ओ बन्नासा बालपनो आयो आपरो,

साथीडा संग जाय बन्ना ओ,
बालपनो आयो आपरो,
कोई साथीडा संग जाय बन्ना ओ,
बालपनो आयो आपरो रे।।



ओ बीरू रे पातावत राठौडा रे आंगने,

छा रयो हरख उमाव बीरा ओ,
पातावत राठौडा रे आंगने,
कोई छा रयो हरख उमाव बीरा रे,
पातावत राठौडा रे आंगने रे।।



ओ बन्नासा राठौडा रे आंगने बाजे,

सुरंगा ढोल बन्ना ओ,
राठौडा रे आंगने कोई बाजे सुरंगा ढोल,
बन्ना ओ राठौडा रे आंगने रे।।



ओ बन्नासा उर्मिला कंवर सु आपने,

बन्नासा ब्याव रचायो आप बन्नासा,
उर्मिला कंवर सु आपने,
कोई ब्याव रचायो आप,
बन्नासा उर्मिला कंवर सु आपने रे।।



ओ बन्नासा आयो बुलावो यमराज रो,

बन्ना स्वर्ग सिदाया आप,
बन्ना ओ आयो बुलावो यमराज रो,
थेतो स्वर्ग सिधाया आप,
बन्ना ओ आयो बुलावो यमराज रो रे।।



ओ बन्नासा पराक्रम सिंह री विनती,

बन्नासा जुग जुग चरनो रे माय,
बन्नासा भक्त मंडल री विनती,
म्हाने राखो चरना माय,
बन्नासा भक्त मंडल री विनती रे।।



ओ बीरू रे चोटिला हद सोवनो,

ओ म्हारा ओम बन्नासा रो धाम,
बीरू रे चोटिला हद सोवनो रे,
जटे ओम बन्नासा रो धाम,
बीरा रे चोटिला हद सोवनो रे।।

गायक – प्रकाश माली जी।
प्रेषक – मनीष सीरवी।
(रायपुर जिला पाली राजस्थान)
9640557818


आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें