धुप खेवाला अगरबत्ती ओ निज मंदरिया में रमता पधारो गणपति

धुप खेवाला अगरबत्ती ओ निज मंदरिया में रमता पधारो गणपति

धुप खेवाला अगरबत्ती ओ,
निज मंदरिया में,
रमता पधारो गणपति,
निज मंदरिया में,
रमता पधारो गणपति।।



ब्रम्हा पधारो देवा,

विष्णु पधारो जी,
संग में लाओ सरस्वती ओ,
निज मंदरिया में,
रमता पधारो गणपति।।



राम पधारो देवा,

लखन पधारो जी,
संग लाओ सिया सती,
निज मंदरिया में,
रमता पधारो गणपति।।



मुरली बजाता,

कृष्ण पधारो जी,
संग में लाओ राधा रानी,
निज मंदरिया में,
रमता पधारो गणपति।।



डमरू बजाता देवा,

शिवजी पधारो जी,
संग में लाओ पार्वती,
निज मंदरिया में,
रमता पधारो गणपति।।



रणत भँवर सूं,

आप पधारो जी,
संग में लाओ रिद्धि सिद्धि,
निज मंदरिया में,
रमता पधारो गणपति।।



अरे बाई मीरा गावे,

प्रभु गिरधर रा गुण जी,
देवो देवो भक्ति रो वरदान,
निज मंदरिया में,
रमता पधारो गणपति।।



धुप खेवाला अगरबत्ती ओ,

निज मंदरिया में,
रमता पधारो गणपति,
निज मंदरिया में,
रमता पधारो गणपति।।

स्वर – नरेश प्रजापति,
प्रेषक – नारायण रेगर
PH. 9549365704


१ टिप्पणी

आपको ये भजन कैसा लगा ? अपने विचार बताएं

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें