मुलतान भगत आंहू आले ने सजा दिया दरबार हो

मुलतान भगत आंहू आले ने,
सजा दिया दरबार हो,
मेहंदीपुर के बालाजी,
तेरी होरी जय-जयकार हो।।



व्रत करे तेरा करे चालीसा,

बाबा शाम सवेरी,
तावल करके आजा बाबा,
क्यूं लारया सै देरी,
तेरे दर के आगे बाबा,
लागी लाम्बी लार हो,
मेहंदीपुर के बालाजी,
तेरी होरी जय-जयकार हो।।



बांझण न दे पूत हो बाबा,

कोढ़ी न दे काया,
मन की चाही हो बाबा,
जो तेरे दर पे आया,
तेरी दया त बाला जी मेरा,
सुखी रवे घरबार हो,
मेहंदीपुर के बालाजी,
तेरी होरी जय-जयकार हो।।



देशी घी की सवामणि का,

तेरा भोग लगावां,
मेहंदीपुर के बालाजी हम,
तेरी जोत जगावां,
तेरी दया त बाला जी म्हारा,
होगा सै उद्धार हो,
मेहंदीपुर के बालाजी,
तेरी होरी जय-जयकार हो।।



जिला कैथल तहसील पूण्डरी,

आंहू गाम सै प्यारा,
मुलतान भगत न बालाजी,
बस तेरा एक सहारा,
नरेश जांगड़ा बुढ़ाखेड़ा का,
होजा बेड़ा पार हो,
मेहंदीपुर के बालाजी,
तेरी होरी जय-जयकार हो।।



मुलतान भगत आंहू आले ने,

सजा दिया दरबार हो,
मेहंदीपुर के बालाजी,
तेरी होरी जय-जयकार हो।।

Singer / Upload – Naresh Jangra
9896847800


आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें