मोरे खाटू जी सरकार थारी ज्योत जली दुनिया भर में लिरिक्स

मोरे खाटू जी सरकार,
थारी ज्योत जली दुनिया भर में।।

तर्ज – जुलम कर डारयो।



शीश को है तू दानी,

सारी दुनिया ने मानी,
थे तो तीन बाण हो धारी,
थारी ज्योत जली दुनिया भर में,
मोरे खाटु जी सरकार,
थारी ज्योत जली दुनिया भर में।।



फागुण को है यो महीनो,

बाबा को लग्यो है मेलो,
सारे भर भर खेले गुलाल,
थारी ज्योत जली दुनिया भर में,
मोरे खाटु जी सरकार,
थारी ज्योत जली दुनिया भर में।।



कोई लावे नीलो पीलो,

कोई लावे रंग गुलाबी,
थारे केसरिया है लगावे,
थारी ज्योत जली दुनिया भर में,
मोरे खाटु जी सरकार,
थारी ज्योत जली दुनिया भर में।।



सबकी बाबा सुनता,

थे सबकी लाज बचाता,
‘केशव’ आयो थारे द्वार,
म्हे आया थारे द्वार,
थारी ज्योत जली दुनिया भर में,
मोरे खाटु जी सरकार,
थारी ज्योत जली दुनिया भर में।।



मोरे खाटू जी सरकार,

थारी ज्योत जली दुनिया भर में।।

Singer – Keshav Trivedi


आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें