म्हारे आंगणिये पधारो श्याम खाटू रा धणी भजन लिरिक्स

म्हारे आंगणिये पधारो,
श्याम खाटू रा धणी,
अब तो लियो आसरो थारो,
अब तो लियो आसरो थारो,
श्याम खाटू रा धणी,
म्हारे आंगणिये पधारों,
श्याम खाटू रा धणी।।



भजकर नाम आपरो,

थारी महिमा मैं जाणी,
खिण खिण थारो नाम जपें है,
नित म्हारी वाणी,
अब एक भरोसो थारो,
अब एक भरोसो थारो,
श्याम खाटू रा धणी,
म्हारे आंगणिये पधारों,
श्याम खाटू रा धणी।।



हृदय तिर्पत हो ग्यो,

मनश्यवा होगी पूरी,
थारे म्हारे बिच जकी ही,
मिटगी वा दुरी,
थे नैणा माय विराजो,
थे नैणा माय विराजो,
श्याम खाटू रा धणी,
म्हारे आंगणिये पधारों,
श्याम खाटू रा धणी।।



लीला अपरम्पार समझ में,

किण ने नहीं आवे,
जकी समझ में आवे,
उण ने भजना में गावे,
सुण रोम रोम पुलकीजै,
सुण रोम रोम पुलकीजै,
श्याम खाटू रा धणी,
म्हारे आंगणिये पधारों,
श्याम खाटू रा धणी।।



म्हारे आंगणिये पधारो,

श्याम खाटू रा धणी,
अब तो लियो आसरो थारो,
अब तो लियो आसरो थारो,
श्याम खाटू रा धणी,
म्हारे आंगणिये पधारों,
श्याम खाटू रा धणी।।

Singer : Sandeep Bansal


आपको ये भजन कैसा लगा ? अपने विचार बताएं

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें