मेवाड़ी राणा भजना से लागे मीरा मीठी भजन लिरिक्स

मेवाड़ी राणा भजना से लागे मीरा मीठी,
उदयपुर राणा भजना से लागे मीरा मीठी,
भजना से लागे मीरा मीठी,
मेवाडी राणा भजना से लागे मीरा मीठी।।



सकड़ी गली में म्हारे सतगुरु मिलया,

किन विध पिरु मैं अँगूठी,
मेवाडी राणा भजना से लागे मीरा मीठी।।



सास नणद म्हारी देराणी जेठाणी,

बल जल हो गई अंगीठी,
मेवाडी राणा भजना से लागे मीरा मीठी।।



म्हारो तो राम राणा घट घट में बोले,

थारी तो एक ही किया बूटी,
मेवाडी राणा भजना से लागे मीरा मीठी।।



बाई मीरा केवे हरी ने गिरधर नागर,

पार तो लगावो नई परीति,
मेवाडी राणा भजना से लागे मीरा मीठी।।



मेवाडी राणा भजना से लागे मीरा मीठी,

उदयपुर राणा भजना से लागे मीरा मीठी,
भजना से लागे मीरा मीठी,
मेवाड़ी राणा भजना से लागे मीरा मीठी।।


१ टिप्पणी

आपको ये भजन कैसा लगा ? अपने विचार बताएं

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें