मेरा मन जाए जहाँ रूप वहाँ तेरा हो भजन लिरिक्स

मेरा मन जाए जहाँ,
रूप वहाँ तेरा हो,
जहाँ हो चरण तेरे,
जहाँ हो चरण तेरे,
सर वहाँ मेरा हो,
मेरा मन जाये जहाँ,
रूप वहाँ तेरा हो।।

तर्ज – सांवरे से मिलने का।



दास मैं तुम्हारा हूँ,

इतनी दया कर दो,
दास मैं तुम्हारा हूँ,
इतनी दया कर दो,
मेरे मन मंदिर में,
आप का बसेरा हो,
मेरा मन जाये जहाँ,
रूप वहाँ तेरा हो।।



जीवन में बुराई की,

कांटे ही उगाए है,
जीवन में बुराई की,
कांटे ही उगाए है,
दिल के किसी कोने में,
नेकी का भी डेरा हो,
मेरा मन जाये जहाँ,
रूप वहाँ तेरा हो।।



गम के महासागर से,

पार हुआ है वो ही,
गम के महासागर से,
पार हुआ है वो ही,
‘गजेसिंह’ जिसने भी,
श्याम नाम टेरा हो,
Bhajan Diary Lyrics,
मेरा मन जाये जहाँ,
रूप वहाँ तेरा हो।।



मेरा मन जाए जहाँ,

रूप वहाँ तेरा हो,
जहाँ हो चरण तेरे,
जहाँ हो चरण तेरे,
सर वहाँ मेरा हो,
मेरा मन जाये जहाँ,
रूप वहाँ तेरा हो।।

Singer – Harsh Taneja


आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें