कृष्णा रे कृष्णा मथुरा न जइयो गोकुल न जइयो

कृष्णा रे कृष्णा,
मथुरा न जइयो,
गोकुल न जइयो,
मेरे मन मै रहियो,
ओ कृष्णा रे कृष्णा,
माखन चुरइयो न,
गइया न चरइयो,
मेरे मन मे रहियो,
मेरे मन मे रहियो,
मथुरा न जईयो,
गोकुल न जइयो,
मेरे मन मे रहियो।।

तर्ज – पूरब न जइयो।



मुरली की वही 
तान सुनादो,
गीता का उपदेश सुना दो,
अर्जुन का रथ,
हाकन न जइयो,
मथुरा न जईयो,
गोकुल न जइयो।।



आठो प्रहर तेरा,

नाम जपूँ मै,
शामो शहर तेरा,
ध्यान करूँ मै,
ऐसी लगन मेरे,
मन मे लगइयो,

मथुरा न जईयो,
गोकुल न जइयो।।



मीरा सा प्रभू प्रेम जगादो,

चरणो मे मेरे,
मन को लगादो,
अवगुण मेरे,
चित मे न लइयो,
मथुरा न जईयो,
गोकुल न जइयो।।



कृष्णा रे कृष्णा,

मथुरा न जइयो,
गोकुल न जइयो,
मेरे मन मै रहियो,
ओ कृष्णा रे कृष्णा,
माखन चुरइयो न,
गइया न चरइयो,
मेरे मन मे रहियो,
मेरे मन मे रहियो,
मथुरा न जईयो,
गोकुल न जइयो,
मेरे मन मे रहियो।।

– भजन लेखक एवं प्रेषक –
श्री शिवनारायण वर्मा,
मोबा.न.8818932923

वीडियो उपलब्ध नहीं।


 

आपको ये भजन कैसा लगा ? अपने विचार बताएं

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें