प्रथम पेज प्रकाश माली भजन म्हारी झुपड़िया आवो मारा राम भजन लिरिक्स

म्हारी झुपड़िया आवो मारा राम भजन लिरिक्स

म्हारी झुपड़िया आवो मारा राम,

मन रो मोरलीयो रटे थारो नाम,
मारी झूपडीया आवो मारा राम,
एक बार आया पूरो होवे सब काम,
मारी झूपडीया आवो मारा राम।।



सूरज उगे रे मारी उगती रे आशा,

संध्या ढले ने माने मिलती निराशा,
रात दिवस माने सूजे नही काम,
रात दिवस माने सूजे नही काम,
मारी झूपडीया आवो मारा राम।।



आँखडली माने आंसू दिखाय है,

दर्शन बिना मारो हिवडो दुखाय रे,
नही रे आवो तो प्यारा जासी मारा प्राण,
नही रे आवो तो प्यारा जासी मारा प्राण,
मारी झूपडीया आवो मारा राम।।



एक बार प्यारा थारी झाकी जोवायो,

आंसू रा बिन्दू सु धोवु थारा पाव,
मांगू सदा थारे चरना मे वास,
मांगू सदा थारे चरना मे वास,
मारी झूपडीया आवो मारा राम।।



रघुवीर राम ने घणो मै चाहूँ,

शांति दान रो वरदान पावु,
सपनो साकार करोजी मारा राम,
सपनो साकार करोजी मारा राम,
मारी झूपडीया आवो मारा राम।।



मन रो मोरलीयो रटे थारो नाम,

म्हारी झुपड़िया आवो मारा राम,
एक बार आया पूरो होवे सब काम,
मारी झूपडीया आवो मारा राम।।

गायक – प्रकाश माली जी नीता जी नायक।
प्रेषक – मनीष सीरवी
9640557818


कोई टिप्पणी नही

आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें

error: कृपया प्ले स्टोर से \"भजन डायरी\" एप्प डाउनलोड करे।