म्हारा सांवरिया गोकुल की गुजरिया लड़वा लागि रे लिरिक्स

म्हारा सांवरिया गोकुल की गुजरिया लड़वा लागि रे लिरिक्स

म्हारा सांवरिया गोकुल की,
गुजरिया लड़वा लागि रे,
गोकुल की गुजरिया,
लड़वा लागि रे,
मारा सांवरिया गोकुल की,
गुजरिया लड़वा लागि रे।।



गुजरिया की मटक्या फोड़े,

घर में घुस छिको तोड़े,
चोरी की काई आदत पड़गी रे,
मारा सांवरिया गोकुल की,
गुजरिया लड़वा लागि रे।।



हर घर को माखन खाटो,

गुजरिया को लागे मिठो,
घर की तो खांड करकरी लागि रे,
मारा सांवरिया गोकुल की,
गुजरिया लड़वा लागि रे।।



यमुना में नाह्वा जावे,
सखियाँ रो चीर चुरावे,
नाहती गुजरिया शरमाया मरगी रे,
मारा सांवरिया गोकुल की,
गुजरिया लड़वा लागि रे।।



म्हारा सांवरिया गोकुल की,

गुजरिया लड़वा लागि रे,
गोकुल की गुजरिया,
लड़वा लागि रे,
मारा सांवरिया गोकुल की,
गुजरिया लड़वा लागि रे।।

गायक – सुखदेव जी भारती।


आपको ये भजन कैसा लगा ? अपने विचार बताएं

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें