प्रथम पेज विविध भजन मन नि रंगाया रंगाया कपड़ा कबीर भजन लिरिक्स

मन नि रंगाया रंगाया कपड़ा कबीर भजन लिरिक्स

मन नि रंगाया रंगाया कपड़ा,
हो जोगी मन नी रंगाया रंगाया कपड़ा,
रंगाया कपड़ा हो रंगाया कपड़ा।।



हा जाय जंगल जोगी,

धुणी रमाई रे हा,
हा राख लगाई ने,
होया गदडा,
हा राख लगाई ने,
होया गदडा,
जोगी मन नी रंगाया रंगाया कपड़ा,
रंगाया कपड़ा हो रंगाया कपड़ा।।



हा जाय जंगल जोगी,

जटा बढाई रे हा,
हा दाढ़ी रखाई ने होया बकरा,
हा दाढ़ी रखाई ने होया बकरा,
जोगी मन नी रंगाया रंगाया कपड़ा,
रंगाया कपड़ा हो रंगाया कपड़ा।।



हा जाई जंगल जोगी,

गुफा बणाई रे हा,
हा गुफा बणाई ने होया उदंरा,
हा गुफा बणाई ने होया उदंरा,
जोगी मन नी रंगाया रंगाया कपड़ा,
रंगाया कपड़ा हो रंगाया कपड़ा।।



हा दुध पिवेगा जोगी,

बालक बछुवा रे हा,
हा काम जलाई ने होया हिजड़ा,
हा काम जलाई ने होया हिजड़ा,
जोगी मन नी रंगाया रंगाया कपड़ा,
रंगाया कपड़ा हो रंगाया कपड़ा।।



हा कहे कबीर सुणो,

भाई साधो रे हा,
हा जम के द्वारे मचाया झगड़ा,
जोगी मन नी रंगाया रंगाया कपड़ा,
रंगाया कपड़ा हो रंगाया कपड़ा।।



मन नि रंगाया रंगाया कपड़ा,

हो जोगी मन नी रंगाया रंगाया कपड़ा,
रंगाया कपड़ा हो रंगाया कपड़ा।।

Upload By – Nikul Parmar
8128372814


कोई टिप्पणी नही

आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें

error: कृपया प्ले स्टोर से \"भजन डायरी\" एप्प डाउनलोड करे।