मैं तो आरती उतारूँ रे संतोषी माता की आरती लिरिक्स

मैं तो आरती उतारूँ रे संतोषी माता की,
मैं तो आरती उतारूँ रे,

संतोषी माता की,
जय जय संतोषी माता,
जय जय माँ,
जय जय संतोषी माता,
जय जय माँ।।



बड़ी ममता है बड़ा प्यार,

माँ की आँखों में,
बड़ी करुणा माया दुलार,
माँ की आँखों में,
क्यूँ ना देखूँ मैं बारम्बार,
माँ की आँखों में,
दिखे हर घड़ी नया चमत्कार,
माँ की आँखों में,
नृत्य करूँ झूम झूम,
छम छमा छम झूम झूम,
झांकी निहारो रे,
मै तो आरती उतारूं रे,
संतोषी माता की,
जय जय संतोषी माता,
जय जय माँ,
जय जय संतोषी माता,
जय जय माँ।।



सदा होती है जय जयकार,

माँ के मंदिर में,
नित झांझर की होवे झंकार,
माँ के मंदिर में,
सदा मंजीरे करते पुकार,
माँ के मंदिर में,
वरदान के हैं भरे भंडार,
माँ के मंदिर में,
दीप करूँ धूप करूँ,
प्रेम सहित भक्ति करो,
जीवन सुधारो रे,
मै तो आरती उतारूं रे,
संतोषी माता की,
जय जय संतोषी माता,
जय जय माँ,
जय जय संतोषी माता,
जय जय माँ।।



मैं तो आरती उतारूँ रे संतोषी माता की,
मैं तो आरती उतारूँ रे,

संतोषी माता की,
जय जय संतोषी माता,
जय जय माँ,
जय जय संतोषी माता,
जय जय माँ।।


आपको ये भजन कैसा लगा ? अपने विचार बताएं

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें