लो आ गया अब तो श्याम मैं शरण तेरी भजन लिरिक्स

लो आ गया अब तो श्याम,
मैं शरण तेरी,
मैं शरण तेरी मैं शरण तेरी,
मैं शरण तेरी मैं शरण तेरी,
लों आ गया अब तों श्याम,
मैं शरण तेरी।।

तर्ज – लो आ गई उनकी याद।



जाने कहाँ कहाँ पर,

भटका तेरा दीवाना,
दर ये तुम्हारा बाबा,
मेरा आखरी ठिकाना,
जिसपे किया भरोसा,
उसने ही आंख फेरी,
लों आ गया अब तों श्याम,
मैं शरण तेरी।।



मुझे थाम ले दुखो से,

आया हूँ हार कर के,
थक सा गया हूँ बाबा,
जग को पुकार कर के,
एक आस दिल में मेरे,
बाकी है श्याम तेरी,
लों आ गया अब तों श्याम,
मैं शरण तेरी।।



चरणों की धूल दे दे,

मुझको भी हे दयालु,
भटका हूँ जिसकी खातिर,
सच्ची ख़ुशी वो पा लूँ,
ऐ ‘हर्ष’ तू बता दे,
किस बात की है देरी,
लों आ गया अब तों श्याम,
मैं शरण तेरी।।



लो आ गया अब तो श्याम,

मैं शरण तेरी,
मैं शरण तेरी मैं शरण तेरी,
मैं शरण तेरी मैं शरण तेरी,
लों आ गया अब तों श्याम,
मैं शरण तेरी।।

स्वर – संजय मित्तल जी।


पिछला भजनसिद्ध कुंजिका स्तोत्र
अगला भजनतू प्यार का सागर है प्रार्थना हिंदी लिरिक्स

2 टिप्पणी

आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें