लीला तेरी तू ही जाने रामदेव जी भजन लिरिक्स

लीला तेरी तू ही जाने,

तेरी माया का ना पाया कोई पार,
लीला तेरी तु ही जाने,
तेरी माया का न पाया कोई पार,
लीला तेरी तु ही जाने,
तू ही जाने हो बाबा तू ही जाने,
तू ही जाने हो बाबा तू ही जाने,
ओ सारी दुनिया का पालनहार,
लीला तेरी तु ही जाने।।

तर्ज – तेरी माया का ना पाया कोई पार।



बालक रामा कियो बाल हट,

घोडा चढना चाहे,
हो रामा घोडा चढना चाहे,
कपडे का घोडा अजमलजी,
बालक के मंगवाये,
हो घोडा बालक के मंगवाये,
हो ओ ऊंचे अम्बर भरे उडान,
हो गए देख सभी हैरान,
ऊंचे अम्बर भरे उडान,
हो गए देख सभी हैरान,
चोरी करलेवे दरजी स्वीकार,
लीला तेरी तु ही जाने,
तेरी माया का न पाया कोई पार,
लीला तेरी तु ही जाने।।



खोजत गेंद खिलाड़ी रामा,

बालीनाथ गुफा आए,
हो रामा बालीनाथ गुफा आए,
हो ओ भैरव भय से बालीनाथ जी,
गुदडी मे लिपटाये,
हो बालक गुदडी मे लिपटाये,
हो ओ हारा भैरव गुदडी खीच,
क्षमा मांगे पीर बिन नीच,
ओ हारा भैरव गुदडी खीच,
क्षमा मांगे पीर बिन नीच,
प्रभु करदेवे पल में संहार,
के लीला तेरी तु ही जाने,
तेरी माया का न पाया कोई पार,
लीला तेरी तु ही जाने।।



मिसरी बेचन लखी बिन्जारा,

राम रूनीचे आया,
हो ओतो राम रूनीचे आया,
हो ओ प्रभु ने पूछा बालद मे क्या,
मिसरी नमक बताया,
हो वोतो मिसरी नमक बताया,
हो ओ बोला रामजी आगे झूठ,
हो गई मिसरी नमक अखुट,
बोला रामजी आगे झूठ,
हो गई मिसरी नमक अखुट,
क्षमा करदेवे प्रभु बारम्बार,
के लीला तेरी तु ही जाने,
तेरी माया का न पाया कोई पार,
लीला तेरी तु ही जाने।।



मक्का जी से पाँच पीर मिल,

लेने परिक्षा आए,
ओ प्रभु लेने परिक्षा आए,
हो ओ भूल गए मक्का जी बर्तन,
भोजन कैसे पाये,
हो वेतो भोजन कैसे पाये,
ओ हो बर्तन पलख झपकते आय,
पाँचो पीर ही भोजन पाय,
बर्तन पलख झपकते आय,
पाँचो पीर ही भोजन पाय,
भया पीरो का तू पीर करतार,
के लीला तेरी तु ही जाने,
तेरी माया का न पाया कोई पार,
लीला तेरी तु ही जाने।।



निराकार साकार तुम ही हो,

तुम हो पालनहारे,
ओ प्रभु तुम हो पालनहारे,
हो ओ कठपुतली जग आपके कर की,
आप नचावन हारे,
ओ प्रभु आप नचावन हारे,
हो ओ जय हो जगत पिता जगदीश,
धरू चरण शरण मे शिश,
जय हो जगत पिता जगदीश,
धरू चरण शरण में शिश,
भुजा तेरी करनी सुत का है भार,
लीला तेरी तू ही जाने,
तेरी माया का न पाया कोई पार,
लीला तेरी तु ही जाने।।



तेरी माया का ना पाया कोई पार,

लीला तेरी तु ही जाने,
तेरी माया का न पाया कोई पार,
लीला तेरी तु ही जाने,
तू ही जाने हो बाबा तू ही जाने,
तू ही जाने हो बाबा तू ही जाने,
ओ सारी दुनिया का पालनहार,
लीला तेरी तु ही जाने।।

गायक – प्रकाश माली जी।
प्रेषक – मनीष सीरवी
9640557818


आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें