खोलो समाधी भोले शंकर मुझे दरश दिखाओ लिरिक्स

खोलो समाधी भोले शंकर,
मुझे दरश दिखाओ,
इस जग की झूठी माया,
से मुझको बचाओ,
खोलो समाधि भोले शंकर,
मुझे दरश दिखाओ।।

तर्ज – घर में पधारो गजानंद जी।



शिव शिव जपती मैं,

दूर से आई,
शिव शिव जपती मैं,
दूर से आई,
दर दर की ठोकरें है खाई,
मुझे दरश दिखाओ,
खोलो समाधि भोले शंकर,
मुझे दरश दिखाओ।।



तुमको ढूंढा प्रभु,

मंदिर मंदिर,
तुमको ढूंढा प्रभु,
मंदिर मंदिर,
फिर भी प्रभु ढूंढ ना पाई,
मुझे दरश दिखाओ,
खोलो समाधि भोले शंकर,
मुझे दरश दिखाओ।।



लाई मैं भोले बाबा,

बेल धतूरा,
लाई मैं भोले बाबा,
बेल धतूरा,
गंगा जल मैं लेके आई,
मुझे दरश दिखाओ,
खोलो समाधि भोले शंकर,
मुझे दरश दिखाओ।।



करो मोपे किरपा,

मेरे भोले बाबा,
करो मोपे किरपा,
मेरे भोले बाबा,
दासी का भाग्य जगाओ,
मुझे दरश दिखाओ,
खोलो समाधि भोले शंकर,
मुझे दरश दिखाओ।।



खोलो समाधी भोले शंकर,

मुझे दरश दिखाओ,
इस जग की झूठी माया,
से मुझको बचाओ,
खोलो समाधि भोले शंकर,
मुझे दरश दिखाओ।।

Singer – Kanishka Negi


आपको ये भजन कैसा लगा ? अपने विचार बताएं

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें