खाटू में बाबो झूम रहयो भजन लिरिक्स

खाटू में बाबा तेरो धाम,
खाटू में बाबो झूम रहयो,
खाटू मे बाबो झूम रहयो।।



किसने ओ बाबा तेरो,

मंदिर बनायो,
मंदिर बनायो,
कीको पेहल्या चढ़ निशान,
खाटू मे बाबो झूम रहयो।।



राजा रूप सिंह चौहान,

तेरो मंदिर बनायो,
मंदिर बनायो,
पेल्या सुरजगढ़ को चढ़ निशान,
खाटू मे बाबो झूम रहयो।।



सारी दुनिया से तेरा भगत भी आवे,

भगत भी आवे,
करे श्याम कुंड मे स्नान,
खाटू मे बाबो झूम रहयो।।



फागण के महीने बाबा मेलो लागे,

मेलो लागे,
बारस की लागे धोक,
खाटू मे बाबो झूम रहयो।।



मिश्री चुरमे को भोग तेरे लागे,

भोग तेरे लागे,
चढ़ें से चप्पन भोग,
खाटू मे बाबो झूम रहयो।।



नितेश कुमावत बाबा थाने रिझावे,

थाने रिझावे,
इको बेड़ो पार लगा दयो,
खाटू मे बाबो झूम रहयो।।



खाटू में बाबा तेरो धाम,

खाटू में बाबो झूम रहयो,
खाटू मे बाबो झूम रहयो।।

Singer – Nitesh Kumawat
Lyrics – Sarla Devi ( Mummy ji )


आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें