खाटू की नगरी में बैठा देव धणी मतवाला भजन लिरिक्स

खाटू की नगरी में बैठा,
देव धणी मतवाला,
मोरछड़ी से खोल रहा वो,
मोरछड़ी से खोल रहा वो,
बंद किस्मत का ताला,
खाटु की नगरी में बैठा।।



कलयुग का अवतारी,

माता अहिलवती का लाला,
तेरे संग भी नाचेगा वो,
तेरे संग भी नाचेगा वो,
जग को नचाने वाला,
खाटु की नगरी में बैठा।।



मैं तो इतना जानू मेरा,

श्याम से गहरा नाता,
श्याम ही मेरा ईष्ट देव है,
श्याम ही मेरा ईष्ट देव है,
श्याम ही भाग्य विधाता,
खाटु की नगरी में बैठा।।



श्याम रंग में जबसे मेरे,

बाबा ने रंग डाला,
‘मोनिका’ तेरे भजनो से,
‘मोनिका’ तेरे भजनो से,
मुस्काये मुरलीवाला,
खाटु की नगरी में बैठा।।



खाटू की नगरी में बैठा,

देव धणी मतवाला,
मोरछड़ी से खोल रहा वो,
मोरछड़ी से खोल रहा वो,
बंद किस्मत का ताला,
खाटु की नगरी में बैठा।।

Singer – Monika Sharma


आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें