प्रथम पेज राजस्थानी भजन खम्मा खम्मा आई माता थारो देवरो ए माँ भजन लिरिक्स

खम्मा खम्मा आई माता थारो देवरो ए माँ भजन लिरिक्स

खम्मा खम्मा आई माता,
थारो देवरो ए माँ,
ओ खम्मा खम्मा आईं माता,
थारो देवरो ए माँ,
म्हाने टाबरिया जाणे नेे दर्शन देवजो,
बिलाड़ा वाली मावडी ओ माँ,
म्हाने टाबरिया जाणे नेे दर्शन देवजो,
बिलाड़ा वाली मावडी ओ माँ,
ओ खम्मा खम्मा आईं माता,
थारो देवरो ए माँ।।



ओ मैया बिलाड़ा नगरी में,

थारो बेसनो ए माँ,
ओ मैया बिलाड़ा नगरी में,
थारो बेसनो ए माँ,
ए थारो बनीयो बनीयो,
मोटो मैया धाम,
ओ बिलाड़ा वाली मावडी ओ माँ,
थारो बनीयो बनीयो,
मोटो मैया धाम,
ओ बिलाड़ा वाली मावडी ओ माँ,
ओ खम्मा खम्मा आईं माता,
थारो देवरो ए माँ,
म्हाने टाबरिया जाणे नेे दर्शन देवजो,
बिलाड़ा वाली मावडी ओ माँ।।



मैया बिलाड़ा ओ बलि राजा,

री नगरी है ए माँ,
मैया बिलाड़ा ओ बलि राजा,
री नगरी है ए माँ,
मैया परचा पडे माताजी रा,
जोर रा बिलाड़ा वाली मावडी ओ माँ,
थारा परचा तो पड़ रया भवानी,
जोर का आई माता थारो देवरो ए माँ,
ओ खम्मा खम्मा आईं माता,
थारो देवरो ए माँ,
म्हाने टाबरिया जाणे नेे दर्शन देवजो,
बिलाड़ा वाली मावडी ओ माँ।।



ए मैया अखण्ड ज्योति तो जागे,

आपरे ओ माँ,
मैया अखण्ड ज्योति तो जागे,
आपरे ओ माँ,
मैया केसर तो बरसे ज्योति माय,
ओ बिलाड़ा वाली मावडी ओ माँ,
मैया केसर तो बरसे ज्योति माय,
ओ बिलाड़ा वाली मावडी ओ माँ,
ओ खम्मा खम्मा आईं माता,
थारो देवरो ए माँ,
म्हाने टाबरिया जाणे नेे दर्शन देवजो,
बिलाड़ा वाली मावडी ओ माँ।।



ए मैया डोराबंध आवे,

ए थारे देवरे ओ माँ,
मैया डोराबंध आवे,
थारे देवरे ओ माँ,
थाने सीरवी मनावे वेगा आवजो,
बिलाड़ा वाली मावडी ओ माँ,
थाने सीरवी मनावे वेगा आवजो,
बिलाड़ा वाली मावडी ओ माँ,
ओ खम्मा खम्मा आईं माता,
थारो देवरो ए माँ,
म्हाने टाबरिया जाणे नेे दर्शन देवजो,
बिलाड़ा वाली मावडी ओ माँ।।



मैया रोहित दासजी रो रनियो,

बेरो सोवनो ए माँ,
मैया रोहित दासजी रो रनियो,
बेरो सोवनो ए माँ,
कोई जीजी वाली पाल मन मोवनी,
बिलाड़ा वाली मावडी ए माँ,
मैया जीजी वाली पाल मन सोवनी,
बिलाड़ा वाली मावडी ए माँ,
ओ खम्मा खम्मा आईं माता,
थारो देवरो ए माँ,
म्हाने टाबरिया जाणे नेे दर्शन देवजो,
बिलाड़ा वाली मावडी ओ माँ।।



धर्म गुरू दिवान साहब,

आविया ए माँ,
कोई माधव सिंह सा ने चरना,
माई राखजो ए माँ,
मैया लक्ष्मण सिंह जी री लजीया,
थे तो राखजो बिलाड़ा,
वाली मावडी ओ माँ,
मैया लक्ष्मण सिंह जी री लजीया,
थे तो राखजो बिलाड़ा,
वाली मावडी ओ माँ,
ओ खम्मा खम्मा आईं माता,
थारो देवरो ए माँ,
म्हाने टाबरिया जाणे नेे दर्शन देवजो,
बिलाड़ा वाली मावडी ओ माँ।।



ओ मैया “मनीष सीरवी” भजन,

बनावीयो ए माँ,
थारो सीरवी मनीष भजन,
ओ गावतो ए माँ,
ए माडी राखोनी छत्तर वाली,
छाव ओ बिलाड़ा वाली मावडी ओ माँ,
कोई राखोनी छत्तर वाली छाव,
ओ बिलाड़ा वाली मावडी ओ माँ,
ओ खम्मा खम्मा आईं माता,
थारो देवरो ए माँ,
म्हाने टाबरिया जाणे नेे दर्शन देवजो,
बिलाड़ा वाली मावडी ओ माँ।।



थारो ‘महेंद्र सिंह राठौड़’ गुण,

गावता ए माँ,
थारो महेंद्र सिंह राठौड़,
भजन गावतो ए माँ,
ए मैया सीरवी समाज शरणे आविया,
बिलाड़ा वाली मावडी ओ माँ,
मैया सीरवी समाज शरणे आविया,
बिलाड़ा वाली मावडी ओ माँ,
ओ खम्मा खम्मा आईं माता,
थारो देवरो ए माँ,
म्हाने टाबरिया जाणे नेे दर्शन देवजो,
बिलाड़ा वाली मावडी ओ माँ।।



खम्मा खम्मा आई माता,

थारो देवरो ए माँ,
ओ खम्मा खम्मा आईं माता,
थारो देवरो ए माँ,
म्हाने टाबरिया जाणे नेे दर्शन देवजो,
बिलाड़ा वाली मावडी ओ माँ,
म्हाने टाबरिया जाणे नेे दर्शन देवजो,
बिलाड़ा वाली मावडी ओ माँ,
ओ खम्मा खम्मा आईं माता,
थारो देवरो ए माँ।।

गायक – महेंद्र सिंह जी राठौड़।
लेखक / प्रेषक – मनीष सीरवी।
9640557818


कोई टिप्पणी नही

आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें

error: कृपया प्ले स्टोर से \"भजन डायरी\" एप्प डाउनलोड करे।