प्रथम पेज कृष्ण भजन काल रात ने सपणो आयो बाबो हेला मारे भजन लिरिक्स

काल रात ने सपणो आयो बाबो हेला मारे भजन लिरिक्स

काल रात ने सपणो आयो,
बाबो हेला मारे,
मंदिर में मेरो मन नहीं लागे,
मनै ले चालो सागै।।



भगत मेरा मनै याद करै,

और खाटू ना आ पावै,
कालजड़ो मेरो भर भर आवै,
कुछ भी नहीं सुहावै।।



भाव भजन थारा चोखा लागै,

याद घणेरी आवै,
लीलो भी मेरो छम छम नाचै,
बिल्कुल ना रूक पावै।।



राख भरोसो बाबो थारो,

था पर जान लुटावै,
बणीं न कोई आफत एसी,
जो थानै भरमावै।।



काल रात ने सपणो आयो,

बाबो हेला मारे,
मंदिर में मेरो मन नहीं लागे,
मनै ले चालो सागै।।

स्वर – संजू शर्मा जी।


2 टिप्पणी

आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें

error: कृपया प्ले स्टोर से \"भजन डायरी\" एप्प डाउनलोड करे।