जो कान्हा तेरी मुरली बजती कुंज वन में भजन लिरिक्स

जो कान्हा तेरी मुरली,
बजती कुंज वन में,
हलचल सी मचती है,
धड़कन बढ़ती मन में।।



मुरली को होंठों से,

जब श्याम लगाते हो,
पीड़ा पल पल बढ़ती,
जब तान सुनाते हो,
ये काया तो घर रहती,
आता मन है वन में,
हलचल सी मचती है,
धड़कन बढ़ती मन में।।



तुम तो वन में जाकर,

निज गाय चराते हो,
हम काम करे घर का,
उस समय बुलाते हो,
एक कसम सी होती है,
उलझन होती तन में,
हलचल सी मचती है,
धड़कन बढ़ती मन में।।



बेदर्द कहूं तुमको,

या मुरली को सौतन,
तुम दोनों की संधि,
कर दे हमको जोगन,
‘प्रेम संतोष’ दर्शन का प्यासा,
गाये ‘डिम्पल’ धुन में,
Bhajan Diary Lyrics,
हलचल सी मचती है,
धड़कन बढ़ती मन में।।



जो कान्हा तेरी मुरली,

बजती कुंज वन में,
हलचल सी मचती है,
धड़कन बढ़ती मन में।।

Singer – Dimpal Bhumi
Tabla – Ramdhyan Gupta


आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें