झूले राधा प्यारी झुलाए रहे बांके बिहारी भजन लिरिक्स

झूले राधा प्यारी,
झुलाए रहे बांके बिहारी।।



रेशम डोर कदम्ब बंधवाई,

कंचन पाती रतन जड़ाई,
वा पर भानु दुलारी,
झुलाए रहे बांके बिहारी,
झुले राधा प्यारी,
झुलाए रहे बांके बिहारी।।



रिमझिम रिमझिम सावन बरसे,

सज श्रंगार चली घर से,
देखन सब ब्रज नारी,
झुलाए रहे बांके बिहारी,
झुले राधा प्यारी,
झुलाए रहे बांके बिहारी।।



झूले श्यामा श्याम झुलावे,

सखियाँ राग मल्हार सुनावे,
मुरली बजे मतवाली,
झुलाए रहे बांके बिहारी,
झुले राधा प्यारी,
झुलाए रहे बांके बिहारी।।



तोता मैना कोयल बोले,

नाचे मोर मगन मन डोले,
महक रही फुलवारी,
झुलाए रहे बांके बिहारी,
झुले राधा प्यारी,
झुलाए रहे बांके बिहारी।।



झोंटा देत करे झकजोरी,

झूले जब श्री राधे गौरी,
‘लख्खा’ बिहारी जाए बलहारी,
झुलाए रहे बांके बिहारी,
झुले राधा प्यारी,
झुलाए रहे बांके बिहारी।।



झूले राधा प्यारी,

झुलाए रहे बांके बिहारी।।


आपको ये भजन कैसा लगा ? अपने विचार बताएं

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें