जय जय जालन्धर नाथ आपने बार बार बलिहारी

जय जय जालन्धर नाथ आपने,
बार बार बलिहारी,
महिमा है जग में भारी,
महिमा है जग में भारी।।



कनकाचल पर्वत मन्दिर थारो,

शोभा जग सु न्यारी,
कनकाचल पर्वत मन्दिर थारो,
शोभा जग सु न्यारी,
दर्शन करवा ने दूर दूर सु,
आवे नर और नारी,
आवे नर और नारी,
सारी विपदा मेटो पल में,
आप बड़ा उपकारी,
महिमा है जग में भारी,
महिमा है जग में भारी।।



जालन्धर नगरी जन्म लियो,

बंगाल तपस्या किनी,
जालन्धर नगरी जन्म लियो,
बंगाल तपस्या किनी,
जालोर नगरी धरती पावन,
जिन पर कृपा कर दीनी,
जिन पर कृपा कर दीनी,
त्यागी मोह माया दुनिया री,
कहलाया थे ब्रम्हचारी,
महिमा है जग में भारी,
महिमा है जग में भारी।।



सिरे मिन्दर री भंवर गुफा मे,

शिव रो ध्यान लगायो,
सिरे मिन्दर री भंवर गुफा मे,
शिव रो ध्यान लगायो,
योगी कहलाया जालन्धर और,
आप अमर पद पायो,
आप अमर पद पायो,
घर घर में गूंजे नाम आपरो,
साचा थे तपधारी,
महिमा है जग में भारी,
महिमा है जग में भारी।।



योगी जालन्धर आपने,

दास अशोक सुनावे,
योगी जालन्धर आपने,
दास अशोक सुनावे,
भगता रा दुखडा दूर करो,
चरना मे शिश निवावे,
चरना मे शिश निवावे है,
ओर नही आस जगत मे,
आयो शरनतिहारी,
महिमा है जग में भारी,
महिमा है जग में भारी।।



जय जय जालन्धर नाथ आपने,

बार बार बलिहारी,
महिमा है जग में भारी,
महिमा है जग में भारी।।

गायक – प्रकाश माली जी।
प्रेषक – मनीष सीरवी।
(रायपुर जिला पाली राजस्थान)
9640557818


इस भजन को शेयर करे:

अन्य भजन भी देखें

मारा कोलूमंड का पाबूजी दरबार थारे आया लिरिक्स

मारा कोलूमंड का पाबूजी दरबार थारे आया लिरिक्स

मारा कोलूमंड का पाबूजी, दरबार थारे आया, थारी केसर की असवारी, प्यारी लागे मारा पाबूजी, दरस दिखाओ जी।। लक्ष्मण का अवतार पाबूजी, थे धांदल दे घर आया, थारी मधुधोखा तो…

पंछीड़ा पावणा रे कांई बागा में मोयो रे देसी भजन लिरिक्स

पंछीड़ा पावणा रे कांई बागा में मोयो रे देसी भजन लिरिक्स

आ दुनिया तो थारी, बावळी रे बेंडा, माया की मोटी, छावनी रे बेंडा, बातां में रहयो बिलमाय, पंछीड़ा पावणा रे कांई, बागा में मोयो रे, कांई माया में मोयो रे।।…

तन काया को पिंजरो बड़ो ज्ञान से घड़यो सिंगाजी भजन लिरिक्स

तन काया को पिंजरो बड़ो ज्ञान से घड़यो सिंगाजी भजन लिरिक्स

तन काया को पिंजरो, बड़ो ज्ञान से घड़यो, ज्ञान से घड़यो रे, बड़ो ज्ञान से घड़यो, तन काया को पिंजरों, बड़ो ज्ञान से घड़यो।। नही लगाई ईट एमे, नही लगाई…

Bhajan Lover / Singer / Writer / Web Designer & Blogger.

Leave a Comment

error: कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इंस्टाल करे