जैसी भी की तेरी भक्ति वो काम आ जाये भजन लिरिक्स

जैसी भी की तेरी भक्ति,
वो काम आ जाये,
मेरे अंत समय में जुबाँ पे,
तेरा नाम आ जाए,
मेरे अंत समय में जुबाँ पे,
तेरा नाम आ जाए।।

तर्ज – दिल दीवाने का डोला।



मैं मूरख और अज्ञानी,

करता आया मनमानी,
मेरे सारे दोष भुला दो,
तुमसा ना दयालु दानी,
इकबारी तेरा मुझपे,
इकबारी तेरा मुझपे ये,
अहसान हो जाए,
मेरे अंत समय में जुबाँ पे,
तेरा नाम आ जाए,
मेरे अंत समय में जुबाँ पे,
तेरा नाम आ जाए।।



ये धन दौलत और माया,

ये पंचतत्व की काया,
सब छोड़ पड़ेगा जाना,
इसने कब साथ निभाया,
जब दम निकले,
जब दम निकले मुझे लेने,
मेरा श्याम आ जाए,
मेरे अंत समय में जुबाँ पे,
तेरा नाम आ जाए,
मेरे अंत समय में जुबाँ पे,
तेरा नाम आ जाए।।



वेदो ने यही लिखा है,

ऋषियों ने यही कहा है,
तेरा सुमिरन करते करते,
जिसने जग छोड़ दिया है,
‘सोनू’ वो तो,
‘सोनू’ वो तो सीधा ही,
तेरे धाम आ जाए,
मेरे अंत समय में जुबाँ पे,
तेरा नाम आ जाए,
मेरे अंत समय में जुबाँ पे,
तेरा नाम आ जाए।।



जैसी भी की तेरी भक्ति,

वो काम आ जाये,
मेरे अंत समय में जुबाँ पे,
तेरा नाम आ जाए,
मेरे अंत समय में जुबाँ पे,
तेरा नाम आ जाए।।

Singer : Mukesh Bagda


आपको ये भजन कैसा लगा ? अपने विचार बताएं

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें