प्रथम पेज कृष्ण भजन जब भी नैन मूंदो जब भी नैन खोलो हिंदी भजन

जब भी नैन मूंदो जब भी नैन खोलो हिंदी भजन

जब भी नैन मूंदो,
जब भी नैन खोलो,

राधे कृष्णा बोलो,
राधे कृष्णा बोलो,

जय राधे कृष्णा,
जय राधे कृष्णा,
जय राधे कृष्णा हरे हरे।।



वृंदावन ब्रज की राजधानी,
यहाँ बसे ठाकुर ठकुरानी,

मधुर मिलन की साक्षी देते, 
सेवा कुञ्ज और यमुना का पानी,
सेवा कुञ्ज और यमुना का पानी,

पूण्य प्रेम रस में आत्मा भिगोलो,
राधे कृष्णा बोलो राधे कृष्णा बोलो ।।



कृष्ण राधिका एक है,
इनमे अंतर नाही,

राधे को आराध लो,
कृष्णा तभी मिल जाए,
प्रथक प्रथक कभी इनको ना तोलो,

अलग अलग कभी इनको ना तोलो,
राधे कृष्णा बोलो राधे कृष्णा बोलो ।।



जब भी नैन मूंदो,
जब भी नैन खोलो,

राधे कृष्णा बोलो,
राधे कृष्णा बोलो

जय राधे कृष्णा,
जय राधे कृष्णा,
जय राधे कृष्णा हरे हरे।।


कोई टिप्पणी नही

आपको ये भजन कैसा लगा ? अपने विचार बताएं

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें

error: कृपया प्ले स्टोर से \"भजन डायरी\" एप्प डाउनलोड करे।