प्रथम पेज कृष्ण भजन हमारे दो ही रिश्तेदार एक हमारे बांके बिहारी दूजे लखदातार

हमारे दो ही रिश्तेदार एक हमारे बांके बिहारी दूजे लखदातार

हमारे दो ही रिश्तेदार,
एक हमारे बांके बिहारी,
दूजे लखदातार,
हमारे दो ही रिश्तेदार,
हमारे दो ही रिश्तेदार।।



एक बजावे मधुर मुरलिया,

एक कहावे सेठ सांवरिया,
एक बजावे मधुर मुरलिया,
एक कहावे सेठ सांवरिया,
एक है राजा वृंदावन के,
एक खाटु के सरदार,
हमारे दो हि रिश्तेदार,
हमारे दो ही रिश्तेदार।।



देख बना के रिश्तेदारी,

कट जाए तेरी विपदा सारी,
देख बना के रिश्तेदारी,
कट जाए तेरी विपदा सारी,
एक भरे भंडार सभी के,
एक करे भव पार,
हमारे दो हि रिश्तेदार,
हमारे दो ही रिश्तेदार।।



एक है श्री हरिदास दुलारे,

दूजे है हारे के सहारे,
एक है श्री हरिदास दुलारे,
दूजे है हारे के सहारे,
एक चरावे वन वन गैया,
एक लीले असवार,
हमारे दो हि रिश्तेदार,
हमारे दो ही रिश्तेदार।।



मान ‘रविंदर गुरूजी’ का कहना,

जो तुमको सुख से है रहना,
मान ‘रविंदर गुरूजी’ का कहना,
जो तुमको सुख से है रहना,
कुञ्ज बिहारी रटते रहिये,
ओ पागल के यार,
हमारे दो हि रिश्तेदार,
हमारे दो ही रिश्तेदार।।



हमारे दो ही रिश्तेदार,

एक हमारे बांके बिहारी,
दूजे लखदातार,
हमारे दो ही रिश्तेदार,
हमारे दो ही रिश्तेदार।।


कोई टिप्पणी नही

आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें

error: कृपया प्ले स्टोर से \"भजन डायरी\" एप्प डाउनलोड करे।