घुंघर वाले बाल तेरी ठोड़ी में हीरा लाल सांवरे क्या कहना

घुंघर वाले बाल तेरी ठोड़ी में हीरा लाल,
तर्ज- सर पे टोपी लाल हाथ में।

घुंघर वाले बाल तेरी ठोड़ी में हीरा लाल,
सांवरे क्या कहना सांवरे क्या कहना,
गल वैजयंती माल चले तूं टेडी मेडी चाल,
सांवरे क्या कहना सांवरे क्या कहना।।



होटों पे मुरली सोहे भक्तों के मन को मोहे

रूप तेरा सांवरे, रूप तेरा सांवरे,
ओ तीखी अदाएँ तेरी तिरछी निगाहें तेरी
हम हुए बावरे,  हम हुए बावरे,
सोहना सा श्रृंगार श्याम तोहे निरखूँ बारम्बार
सांवरे क्या कहना सांवरे क्या कहना।।



जादू चलाया तूने अपना बनाया तूने

हम तेरे हो गए , हम तेरे हो गए,
ओ साँवली सलोनी प्यारी चंचल छवि है न्यारी
चितवन में खो गए, चितवन में खो गए,
तन मन दूँ मैं वार कन्हैया लेउ नज़र उतार
सांवरे क्या कहना सांवरे क्या कहना।।



फूलों का हार तेरा हर्ष ये श्रृंगार तेरा,

नयनों को लुभा गया, नयनों को लुभा गया,
साँवले दीदार तेरा, अजब है खुमार है तेरा
भक्तों पे छा गया, भक्तों पे छा गया
भूले होश हवाश ओ कान्हा मैं भी बन गया दास
सांवरे क्या कहना सांवरे क्या कहना।।



घुंघर वाले बाल तेरी ठोड़ी में हीरा लाल,

सांवरे क्या कहना सांवरे क्या कहना,
गल वैजयंती माल चले तूं टेडी मेडी चाल,
सांवरे क्या कहना सांवरे क्या कहना।।

आपको ये भजन कैसा लगा ? अपने विचार बताएं

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें