दिव्य धरा यह भारती छलक रहा आनंद लिरिक्स

दिव्य धरा यह भारती,
छलक रहा आनंद,
नव सौंदर्य संवारती,
शीतल मंद सुगंध,
उतारे आरती जय माँ भारती,
उतारे आरती जय माँ भारती।।



युग युग से अनगिन धाराएँ,

सेवा में तेरी,
गंगा यमुना सिन्धु नर्मदा,
कृष्णा कावेरी,
युग युग से अनगिन धाराएँ,
सेवा में तेरी,
गंगा यमुना सिन्धु नर्मदा,
कृष्णा कावेरी,
जल जीवन से इसकी माटी,
उपजाती है अन्न,
नव सौंदर्य संवारती,
शीतल मंद सुगंध,
उतारे आरती जय माँ भारती,
उतारे आरती जय माँ भारती।।



पावन भावन इसके आंगन,

पंछी चहक रहे,
अंग अंग में रंग सुमन के,
खिलते महक रहे,
पावन भावन इसके आंगन,
पंछी चहक रहे,
अंग अंग में रंग सुमन के,
खिलते महक रहे,
सदा बहाती मीठे फल,
अमृत रस धार अखंड,
नव सौंदर्य संवारती,
शीतल मंद सुगंध,
उतारे आरती जय माँ भारती,
उतारे आरती जय माँ भारती।।



गगन चूमती पर्वत माला,

वैभव का आलय,
सागर जिनके चरण पखारे,
गूंजे जय जय जय,
गगन चूमती पर्वत माला,
वैभव का आलय,
सागर जिनके चरण पखारे,
गूंजे जय जय जय,
सारा जग आलोकीत होता,
पातव तेज प्रचंड,
नव सौंदर्य संवारती,
शीतल मंद सुगंध,
उतारे आरती जय माँ भारती,
उतारे आरती जय माँ भारती।।



प्रगटाती है मंगलकारी,

तत्या सुखद किरण,
ज्ञान भक्ति और कर्म त्रिवेणी,
स्पंदित है कण कण,
प्रगटाती है मंगलकारी,
तत्या सुखद किरण,
ज्ञान भक्ति और कर्म त्रिवेणी,
स्पंदित है कण कण,
परहित मे जीवन जीने मे,
रहती सदा प्रसन्न,
नव सौंदर्य संवारती,
शीतल मंद सुगंध,
उतारे आरती जय माँ भारती,
उतारे आरती जय माँ भारती।।



यही भूमि है जिसकी गोदी,

प्रगटे पुरूषोत्तम,
यही दिया था योगी राज नेे,
कर्म योग अनुपम,
यही भूमि है जिसकी गोदी,
प्रगटे पुरूषोत्तम,
यही दिया था योगी राज नेे,
कर्म योग अनुपम,
सत्य निष्ठ यह पुण्य भूमि है,
सभी विडारे द्वंद्व,
नव सौंदर्य संवारती,
शीतल मंद सुगंध,
उतारे आरती जय माँ भारती,
उतारे आरती जय माँ भारती।।



दिव्य धरा यह भारती,

छलक रहा आनंद,
नव सौंदर्य संवारती,
शीतल मंद सुगंध,
उतारे आरती जय माँ भारती,
उतारे आरती जय माँ भारती।।

गायक – प्रकाश माली जी।
प्रेषक – मनीष सीरवी
9640557818


इस भजन को शेयर करे:

अन्य भजन भी देखें

थाने अजब बनायो भगवान खिलौना माटी का भजन लिरिक्स

थाने अजब बनायो भगवान खिलौना माटी का भजन लिरिक्स

थाने अजब बनायो भगवान, खिलौना माटी का, माटी का माटी का, माटी का बीरा माटी का, थाने अजब बणायो भगवान, खिलौना माटी का।। दांत दिया रे थाने, मुखड़े री शोभा,…

उठो जवान देश के वसुंधरा पुकारती देशभक्ति गीत लिरिक्स

उठो जवान देश के वसुंधरा पुकारती देशभक्ति गीत लिरिक्स

उठो जवान देश के, वसुंधरा पुकारती, ये देश है पुकारता, पुकारती माँ भारती।। रगों में तेरे बह रहा है, खून राम श्याम का, जगदगुरु गोविन्द और, राजपूती शान का, तू…

आज सतगुरु आवता मारो हरीयो वेगो बाग रे

आज सतगुरु आवता मारो हरीयो वेगो बाग रे

आज सतगुरु आवता, मारो हरीयो वेगो बाग रे, आज सतगुरु आविया, मारो हरीयो वेगो बाग रे, प्याला पाया प्रेम रा, प्यास गई सब भाग रे, प्याला पाया प्रेम रा, प्यास…

Bhajan Lover / Singer / Writer / Web Designer & Blogger.

Leave a Comment

error: कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इंस्टाल करे