प्रथम पेज राजस्थानी भजन धर्म के झगड़े करते करते भारत माँ लूट जाएगी लिरिक्स

धर्म के झगड़े करते करते भारत माँ लूट जाएगी लिरिक्स

धर्म के झगड़े करते करते,
भारत माँ लूट जाएगी,
आज मेरी आसिफा लुट गई,
कल तेरी परी लूट जाएगी,
इंसाफ करो हर नारी का,
सर कलम हो बलात्कारी का।।



धर्म के झगड़ें करते करते,

भारत माँ लूट जाएगी,
आज मेरी आसिफा लुट गई,
कल तेरी परी लूट जाएगी,
अब घर से निकलो बाहर,
हैवान हिंद पर भारी है,
जिसकी पूजा की सदियों से,
क्यों डर में वो नारी है,
क्यों डर में हो नारी है,
कसम तुझे तेरे अल्लाह राम,
गुरु नानक ईशा महान की,
धर्म को लड़ना लड़ते रहेंगे,
बात यहां इंसान की।।



ना पापा में लौट के आऊं,

तेरे इस जहान में,
दुनिया सारी घूर के देखे,
पग-पग पर हैवान है,
तू फिकर ना कर तेरे साथ खड़े,
तेरी राहों में जान देंगे,
तेरी राह में जान लुटा देंगे,
कैंडल नहीं मैं लाया रस्सी,
फांसी पर लटका देंगे,
फांसी पर लटका देंगे,
कसम है बाइबल गुरु ग्रंथ,
गीता और कुरान की,
धर्म लड़ाई ना है बात है,
नारी के सम्मान की।।



धर्म के झगड़े करते करते,

भारत माँ लूट जाएगी,
आज मेरी आसिफा लुट गई,
कल तेरी परी लूट जाएगी,
इंसाफ करो हर नारी का,
सर कलम हो बलात्कारी का।।

सिंगर – छोटू सिंह रावणा।
प्रेषक – सुनील कुमार जाजोरिया।
8302961776


कोई टिप्पणी नही

आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें

error: कृपया प्ले स्टोर से \"भजन डायरी\" एप्प डाउनलोड करे।