देर ना हो जाये भजन हनुमान जी

देर ना हो जाये भजन,
​कब आओगे,
कब आओगे,
लखन की जान चली जायेगी,
क्या तब आओगे। 
देर ना हो जाये,
कहि देर ना हो जाये, 
आजा रे राम ये तुमको बुलाये।। 



तुम्हारी देरि का कारण,

बलि सब पुछते  हैं,
आसमां कि तरफ़,
उठा के नजर देख्ते हे, 
देर ना हो जाये कहि,
देर ना हो जाये।। 



मुर्छित हो गये हे केवट हमारे,

दुख के सागर से नैय्या बचा रे,
छुट गये हे देखो हमसे किनारे ,
कश्ति हमुनत हे तेरे हवाले, 
तुने करदी जो देरी,
तकदीर मेरी सो जाएगी,
जल्दि से आजा बलि,
देर हो जायेगी,
देर ना हो जाये कहि,
देर ना हो जाये।। 



चन्दा कि कसम हे तुझे,

तारो कि कसम हे,
आंसू बहा रहि उन्हि,
आखो कि कसम हे,
दिल से जो हे निकलि,
उन्हि आहो कि कसम हे,
आजा के तुझे लखन के,
प्राणो कि कसम हे,
देर ना हो जाये कहि,
देर ना हो जाये।।



देर ना हो जाये भजन,

​कब आओगे,
कब आओगे,
लखन की जान चली जायेगी,
क्या तब आओगे। 
देर ना हो जाये,
कहि देर ना हो जाये, 
आजा रे राम ये तुमको बुलाये।। 


आपको ये भजन कैसा लगा ? अपने विचार बताएं

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें